वंडर एप से रेफर मरीज नहीं पहुंच रहे डीएमसीएच, डीएम बोले-दोषियों पर होगी कार्रवाई

 

दरभंगा के मरीजों को डीएमसीएच की जगह ले जा रहे न‍िजी अस्‍पताल। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर
कोविड-19 टीकाकरण व अन्य स्वास्थ्य योजनाओं को ले डीएम ने की बैठक दिए निर्देश कहा- वंडर से रेफर महिलाओं के पंडासराय स्थित निजी नर्सिंग होम पहुंचने की मिली है सूचना हो रही जांच वंडर एप के लिए प्रत्येक सोमवार को पुन कैंप शुरू करने का निर्देश।

दरभंगा, सं। जिले के कई प्रखंडों से वंडर एप में रेफर किए जाने वाली गर्भवती महिलाओं को निजी अस्पताल में पहुंचाने की सूचना मिली है। हायाघाट प्रखंड में दस मामले रेफर के थे, लेकिन चार ही मरीज डीएमसीएच पहुंचे। बहादुरपुर एवं बहेड़ी प्रखंड से भी शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। ऐसी सूचना मिल रही है कि पंडासराय स्थित एक निजी अस्पताल में मरीजों को पहुंचाया जा रहा है।

उपरोक्त बातें जिलाधिकारी डा. त्यागराजन एसएम ने कही। वे गुरुवार को आंबेडकर सभागार में कोविड-19 से सुरक्षा व बचाव को लेकर किए जा रहे टीकाकरण व अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रम को लेकर बैठक कर रहे थे। कहा- ऐसा भी हो सकता है कि निजी अस्पताल में मरीज को ले जाने के उद्देश्य वंडर एप पर उसकी इंट्री नहीं कराई जाती होगी। इसकी जांच कराई जा रही है तथा अस्पताल में छापेमारी भी कराई जाएगी। मामला सही पाए जाने पर संबंधित चिकित्सा पदाधिकारी के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने वंडर एप के लिए प्रत्येक सोमवार को पुन: कैंप शुरू करने का निर्देश दिया। कहा कि महीने में दो बार टीकाकरण कैंप के साथ हेल्थ कैंप भी लगाया जाए। उसमें डायबिटीज तथा ब्लड प्रेशर वाले मरीजों की पहचान की जाए। एक डाटा भी संधारित किया जाए। ताकि, प्रशासन को भी जानकारी मिल सके कि कितने ऐसे लोग हैं, जिन्हें उच्च रक्तचाप और डायबिटीज की बीमारी है। लेकिन, उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। इसकी जानकारी रहने पर कोविड लहर के दौरान भी उन्हें सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी। उन्होंने टाउन हॉल के टीकाकरण केंद्र पर भी ऐसी जांच करवाने के निर्देश दिए। बैठक में उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानिया, सिविल सर्जन डॉ. अनिल कुमार, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी अमरेंद्र कुमार मिश्र, डीपीएम हेल्थ विशाल कुमार, केयर इंडिया की जिला समन्वयक श्रद्धा झा, डब्ल्यूएचओ के डा. वासव राज, यूनिसेफ के ओमकार चंद्र एवं शशिकांत ङ्क्षसह आदि मौजूद थे।

कोविड वैक्सीन की समय से करें खपत

डीएम ने सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को कोविड टीकाकरण के लिए प्राप्त वैक्सीन की खपत समय से करने का निर्देश दिया। आयुष्मान भारत कार्यक्रम के अंतर्गत अधिक से अधिक लोगों का गोल्डन कार्ड बनवाने को कहा। उन्होंने कहा कि टीकाकरण का कार्य पहली प्राथमिकता है। इसके बाद ही ये काम किए जाए। उन्होंने कोविड के दूसरे डोज की टीका के लिए लोगों को प्रेरित करने के निर्देश दिया। कहा- स्वास्थ्य आपके द्वार तक कार्यक्रम के लिए महीने में दो बार वैसे गांव, जहां स्वास्थ्य सेवा की पहुंच नहीं है तथा वहां के लोगों को स्वास्थ्य केंद्रों पर पहुंचने में परेशानी होती है, को चिन्हित कर वहां हेल्थ कैंप लगाएं। जांच कर विभिन्न बीमारियों की पहचान करें। विशेषकर कालाजार, मलेरिया एवं एनसीडी की पहचान कर उन्मूलन कार्यक्रम चलाया जाएगा।