नशीले पदार्थ की तस्करी करने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

 

पुलिस ने पांडव नगर थाने में मुकदमा दर्ज कर फरार आरोपितों की तलाश शुरू कर दी है।

पूर्वी जिले के स्पेशल स्टाफ ने नशीले पदार्थ की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि उनके तीन साथी फरार हो गए। पुलिस को उनकी दो कारों से 70 किलो गांजा बरामद हुआ है।

नई दिल्ली । पूर्वी जिले के स्पेशल स्टाफ ने नशीले पदार्थ की तस्करी करने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि उनके तीन साथी फरार हो गए। पुलिस को उनकी दो कारों से 70 किलो गांजा बरामद हुआ है। गिरफ्तार आरोपित विकास चौहान और शुभम शर्मा गुरुग्राम के भोराकलां के रहने वाले हैं। पुलिस ने पांडव नगर थाने में मुकदमा दर्ज कर फरार आरोपितों की तलाश शुरू कर दी है।

पूर्वी जिले की पुलिस उपायुक्त प्रियंका कश्यप ने बताया कि नशीले पदार्थ की बिक्री और तस्करी को रोकने के लिए स्पेशल स्टाफ द्वारा विशेष अभियान शुरू किया गया है। जिसके लिए एसीपी आपरेशंस वेद प्रकाश की निगरानी में विशेष टीम गठित की गई है। इंस्पेक्टर सतेंद्र खारी के नेतृत्व वाली इस टीम में एसआइ अरविंद कुमार, शैलेश, नीरज, बखशीशी, हेड कांस्टेबल कपिल नागर, कैलाश यादव, कांस्टेबल रवि कुमार और विचित्र शामिल हैं।इस टीम को सूचना मिली थी कि कल्याणपुरी इलाके में सुनील गुप्ता उर्फ गोलू और नितिन पहाड़ी उर्फ पहलवान नशीला पदार्थ बेचते हैं। जांच शुरू की गई तो पता चला कि ट्रांसपोर्ट कंपनी की मदद से भुवनेश्वर से गांजा मंगाया जाता है। बीते बुधवार को टीम को सूचना मिली कि दोनों अपने सहयोगी आसिफ के साथ गांजा की बड़ी खेप प्राप्त करने वाले हैं, जो गुरुग्राम स्थित मानेसर, बिलासपुर से आ रही है। ये मिलकर इसे आगे बेचेंगे।

टीम ने सटीक सूचना पर एनएच-नौ पर समसपुर के पास दो कारों को रोका। पुलिस को देख तीन लोग कारों से उतर कर भाग गए। आरोपित विकास चौहान और शुभम शर्मा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कार के अंदर जांच की गई तो दो-दो किलो के पैकेट में 70 किलो गांजा मिला। पूछताछ में दोनों आरोपितों ने बताया कि भुवनेश्वर से गांजा पहले हावड़ा लाया जाता है और वहां से गांजा कपड़ों के बीच छिपा कर ट्रांसपोर्ट की गाड़ियों में गुरुग्राम के मानेसर बिलासपुर तक लाया जाता है।