माता चिंतपूर्णी नवरात्र मेला: श्रद्धालुओं को बड़ी राहत, पंजाब-हिमाचल बॉर्डर पर आन द स्पॉट टेस्ट, आधे घंटे में रिपोर्ट

 


Mata Chintpurni Mela Himachal Border पर होशियारपुर में श्रद्धालुओं की कोरोना टेस्टिंग की जा रही है। जागरण

अगर आप चिंतपूर्णी माता के दर्शन के लिए जाना चाहते हैं तो कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट व वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट जरूरी है लेकिन अब प्रशासन ने भक्तों की सुविधा के लिए शिविर की शुरुआत कर दी है।

संवाददाता, होशियारपुर।अगर आप माता चिंतपूर्णी माता के दर्शन के लिए जाना चाहते हैं तो कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट व वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट जरूरी है। अब प्रशासन ने भक्तों की सुविधा के लिए शिविर की शुरुआत कर दी है। बहुत से भक्त दूर-दूर से मनोकामनाएं लेकर आ रहे थे। उनके पास प्रमाण पत्र व नेगेटिव रिपोर्ट नहीं थी। इसके चलते उन्हें हिमाचल सीमा से वापस भेजा जा रहा था। इसलिए मंगुवाल बैरियर के पास मेडिकल टीम ने कैंप लगाया है। यहां पर जिन श्रद्धालुओं के पास टेस्ट रिपोर्ट या फिर वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र नहीं है, उनका मौके पर ही टेस्ट किया जा रहा है और रिपोर्ट आधे घंटे में मिल रही है।

अगर कोरोना पाजिटिव हुए तो वापस जाना पड़ेगा

यानी यदि आपके पास रिपोर्ट न भी हो तो भी आप टेस्ट के बाद माता चिंतपूर्णी के दर्शन के लिए आगे बढ़ सकते हैं। शर्त यह है कि टेस्ट में आप कोरोना पाजिटिव न हो, अगर हुए तो वापस जाना पड़ेगा।

राहत के बाद बढ़ने लगी मेले में भीड़

इस राहत के बाद धीरे-धीरे मेले में भीड़ बढ़ने लगी है। इसके साथ ही लोगों को मास्क लगाने व गाइडलाइंस का पालन करने की हिदायत जारी की गई है।

jagran

होशियारपुर के मंगुवाल बैरियर पर आधे घंटे में श्रद्धालुओं को कोरोना टेस्टिंग की रिपोर्ट दी जा रही है।

पहले दो दिन हुए थे सैकड़ों श्रद्धालु परेशान

नवरात्र के पहले दिन प्रशासन ने मंगुवाल बैरियर पर लोगों से जारी निर्देशों के तहत कोरोना रिपोर्ट व वैक्सीनेशन के प्रमाण पत्र की डिमांड की थी। जिन लोगों के पास प्रमाण पत्र नहीं था, उन्हें लौटना पड़ा था। इस दौरान लोगों का गुस्सा प्रशासन पर जमकर फूटा था और कुछ ने तो प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की थी। इसके बाद प्रशासन ने एक बार फिर लोगों की सुविधा के लिए मौके पर ही टेस्ट करवाने का कैंप लगवा दिया।

यह भी पढ़ें - Punjab: महिला एंकर को बदनाम करने के लिए रिश्तेदारों को भेजी गंदी तस्वीरें, संबंध तोड़ने पर सहकर्मी की करतूत

बढ़ने लगी रौनक, लंगर भी शुरू

टेस्ट की सुविधा मिलने के बाद चिंतपूर्णी रोड पर रौनक बढ़ने लगी है। पैदल यात्रा करते हुए श्रद्धालु माता के दरबार पर पहुंच रहे हैं। इसके साथ ही लंगर भी लग रहे हैं। कोरोना के चलते इस बार श्रद्धालुओं के साथ लंगर की संख्या भी कम है, फिर भी शाही लंगर का दस्तूर जारी है। जो भी लंगर लग रहे हैं उसका खाना किसी होटल से कम नहीं है। जगह जगह आइसक्रीम, गोले, आलू के नान, छोले कुलचे, टिक्की, बर्गर, न्यूडल, कड़ी चावल, पूरी चन्ने, मिल्क शेक, बादाम शेक के लंगर श्रद्धालुओं की सेवा में लगाए गए हैं। लंगर प्रबंधकों को उम्मीद है कि आखिरी दो दिन रश होगा।