देहरादून में डाकघरों में बहनों के लिए बढ़े राखी काउंटर, हर रोज भेज रहे पांच हजार राखियां

 

रक्षाबंधन पर्व को लेकर घंटाघर स्थित मुख्य डाकघर में भाई की कलाई के लिए राखी पोस्ट कराने पहुंचे युवतियां।

देहरादून में रक्षाबंधन के त्‍योहार को लेकर डाक विभाग ने भी खास तैयारी की है। खासकर दून के घंटाघर स्थित प्रधान डाकघर में अतिरिक्त काउंटर बनाए गए हैं। डाक कर्मी सुबह-शाम एक-एक घंटे अतिरिक्त कार्य भी कर रहे हैं।

 संवाददाता, देहरादून। भाई-बहन के अटूट रिश्ते और स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार जैसे-जैसे निकट आ रहा है, डाकघरों में राखी भेजने को भीड़ भी बढ़ती जा रही है। खासकर घंटाघर स्थित प्रधान डाकघर (जीपीओ) में रोजाना लंबी कतारें नजर आ रही हैं। भीड़ को देखते हुए जीपीओ की ओर से अतिरिक्त काउंटर लगाए जा रहे हैं। साथ ही सुबह-शाम एक-एक घंटे अतिरिक्त कार्य भी किया जा रहा है। इन दिनों डाक विभाग के पास करीब पांच हजार राखियां रोजाना पहुंच रही हैं।

22 अगस्त को रक्षाबंधन है। ऐसे में अपने से दूर रह रहे भाइयों को बहनें राखी के रूप में प्यार भेज रही हैं। डाक विभाग के माध्यम देश के कोने-कोने तक राखी भेजी जा रही हैं। देहरादून में जीपीओ के साथ ही तमाम उप डाकघरों में भी रोजाना राखियां भेजने को भीड़ लग रही है। जीपीओ में राखियों के लिए काउंटर की संख्या पांच से बढ़ाकर सात कर दी गई है। वहीं, सुबह और शाम एक-एक घंटा अतिरिक्त कार्य भी हो रहा है।

जीपीओ के वरिष्ठ पोस्ट मास्टर जेपी सेमवाल ने बताया कि डाकघरों में रक्षाबंधन के मद्देनजर कार्य बढ़ गया है। मानव संसाधन की उपलब्धता के अनुसार पूरी क्षमता से कार्य किया जा रहा है। रोजाना सामान्य डाक और स्पीड पोस्ट आदि के माध्यम से करीब पांच हजार राखियां पहुंच रही हैं। जिन्हें विभिन्न शहरों और राज्यों को भेजा जा रहा है। इसके अलावा तीन हजार के करीब राखियां रोजाना बाहर से मिल रही हैं। राखियां घर-घर पहुंचाने का कार्य निरंतर जारी है। जीपीओ में राखियों के लिए 10-10 रुपये के डिजायनर लिफाफे भी उपलब्ध हैं। यह लिफाफे डाक टिकटयुक्त वाटरपू्रफ होते हैं।

रविवार को भी बांटी जाएंगी राखियां

इस बार रक्षाबंधन रविवार को है, हालांकि, इस दिन सरकारी छुट्टी होती है, लेकिन डाक विभाग पूरे दिन कार्य करेगा। दिनभर डाकघरों में पहुंची राखियों के वितरण का कार्य जारी रहेगा। डाकघर में अन्य गतिविधियां संचालित नहीं होंगी। केवल राखियां घर-घर पहुंचाने का कार्य होगा।