भादो में लगी सावन की झड़ी, 121 साल में दूसरी और 77 साल में पहली बार हुई इतनी बारिश


दिल्ली में मानसून की बारिश ने तोड़ा 46 साल का रिकार्ड

दिल्ली में शनिवार को हुई मानसून की झमाझम बारिश ने 46 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। दिल्ली में इस साल शनिवार तक 1100 mm बारिश हुई। यह पिछले 46 साल में सबसे ज्यादा मानसून की बारिश है। बारिश की वजह से कई जगहों पर जलभराव हो गया है।

नई दिल्ली,संवाददाता। सावन में भले ही दिल्ली वालों के हिस्से में ज्यादा बारिश न आई हो, लेकिन भादो में इस बार नए-नए रिकार्ड बन रहे हैं। शनिवार की झमाझम बारिश ने भी एक बार फिर से कई रिकार्ड बना दिए। सितंबर की बारिश ने जहां 77 सालों का रिकार्ड तोड़ दिया, वहीं मानसून की बारिश ने 46 सालों का रिकार्ड तोड़ा। बीते 121 (1901 से 2021 के बीच) सालों में यह दूसरी बार है जब दिल्ली में सितंबर में कुल 380.2 मिमी बारिश रिकार्ड की गई है। जबकि पिछले 77 सालों में पहली बार सितंबर में इतनी अधिक बारिश रिकार्ड हुई है।

इससे पहले 1944 में 417.3 मिमी बारिश रिकार्ड की गई थी। पिछले 24 घंटों में 94.7 मिमी बारिश दर्ज की गई है। उधर, दिनभर हुई बारिश के कारण राजधानी में कई जगह लोगों को जलभराव की समस्या से जूझना पड़ा। सड़कों, दुकानों, घरों में पानी भर गया। कई अंडरपासों को पानी भरने के कारण बंद कर दिया गया। जगह-जगह लोग जाम में फंसे रहे। नरेला औद्योगिक क्षेत्र में सड़क से सटे नाले में गिरकर एक युवक की मौत हो गई।

एयरपोर्ट पर पानी भरा, ट्रेनें भी हुई प्रभावित

बारिश के चलते इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। एयरपोर्ट के टी-तीन टíमनल जलभराव से वहां पर तालाब जैसा नजारा हो गया। इस दौरान पांच फ्लाईट को जयपुर किया गया। कुछ उड़ानें रद की गईं। वहीं ट्रेनों का आवागमन भी प्रभावित रहा।

सुबह से शाम तक हुई 39.8 मिमी बारिश

शनिवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से सात डिग्री कम कम 26.8 और न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 24.0 डिग्री सेल्सियस रहा जो पिछले 11 सालों में सबसे कम है। खास बात यह भी रही कि अधिकतम और न्यूनतम तापमान में केवल 2.8 डिग्री का ही अंतर रहा। वहीं सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक 39.8 मिमी बारिश रिकार्ड की गई है।

इस मानसून में पांच बार हुई सबसे अधिक हुई बारिश

मौसम विभाग के वरिष्ठ विज्ञानी आरके जेनामणी के मुताबिक, इस मानसून में ऐसा पांच बार हुआ है जब बारिश अधिक स्तर पर दर्ज की गई है। आमतौर पर इस सीजन में केवल एक या दो बार ही अधिक बारिश रिकार्ड की जाती है। जेनामणि के मुताबिक, 19 जुलाई को 69.6 मिमी, 27 जुलाई को 100 मिमी, 30 जुलाई को 72 मिमी, 21 अगस्त को 138.8 मिमी, एक सितंबर को 112.1 मिमी, दो सितंबर को 117.7 मिमी और अब 11 सितंबर को 94.7 मिमी बारिश रिकार्ड हुई है। शनिवार तक इस सीजन की 64 फीसद अधिक बारिश रिकार्ड की गई है।