सोनू सूद ने इनकम टैक्स की छापेमारी के बाद दी सफाई, 'बचे हुए' 17 करोड़ रुपए इस तरह करेंगे खर्च


सोनू सूद पर 20 करोड़ रुपए की टैक्स की चोरी और एफसीआरए के उल्लंघन का आरोप हैl

सोनू सूद ने यह भी कहा कि उनके घर पर छापा मारने आए इनकम टैक्स के अधिकारियों का उन्होंने बहुत अच्छा ध्यान रखा था। सोनू सूद पर मुंबई उच्च न्यायालय ने भी रेम्डेशिविर इंजेक्शन बिना सरकारी और डॉक्टर्स की अनुमति के वितरण को लेकर भी जांच के आदेश दिए हैl

नई दिल्लीl सोनू सूद के घर और ऑफिस पर हाल ही में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का छापा पड़ा थाl यह छापा करीब 4 दिन चला थाl अब सोनू सूद ने सफाई देकर कहा है कि उन्हें मिले 17 करोड़ रुपए का उपयोग वह किस प्रकार करने वाले हैंl दरअसल सोनू सूद पर आरोप लगा था कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान उन्होंने लोगों से पैसे लेकर लोगों की सहायता करने के नाम पर पैसे एकत्रित किए और करीब 17 करोड़ रुपए उनके बैंक एकाउंट में बिना उपयोग के पड़े रहेl

इनकम टैक्स के अधिकारियों का दावा है कि सोनू सूद पर 20 करोड़ रुपए की टैक्स की चोरी और एफसीआरए के उल्लंघन का मामला बनता हैl सोनू सूद ने अब इसपर प्रतिक्रिया दी हैl सोनू सूद ने कहा कि करीब 17 करोड़ रुपए उनके पास बचे हुए हैंl इसके माध्यम से वह हैदराबाद में एक चैरिटेबल अस्पताल बनाना चाह रहे हैंl इसमें से उन्होंने 2 करोड़ रुपए भवन निर्माण में खर्च कर दिए हैंl

सोनू सूद कहते है, 'कोई भी फाउंडेशन अगर धन प्राप्त करता है तो उसके पास खर्च करने के लिए 1 वर्ष का समय होता है अगर तब तक फंड उपयोग में नहीं आया तो आप उसे 1 वर्ष के लिए बढ़ा सकते हैंl यह नियम हैl मैंने अपना फाउंडेशन कुछ महीने पहले बनाया हैl तब कोरोनावायरस की दूसरी लहर नहीं आई थीl कोरोना की पहली लहर के समय मैंने बिना किसी फाउंडेशन के मदद की हैl हमने दूसरी लहर आने के पहले फाउंडेशन बनाया और लोगों से धन एकत्रित करना शुरू कियाl मैं अपनी और लोगों की मेहनत की कमाई व्यर्थ नहीं जाने दूंगाl'सोनू सूद ने यह भी कहा कि उनके घर पर छापा मारने आए इनकम टैक्स के अधिकारियों का उन्होंने बहुत अच्छा ध्यान रखा था। सोनू सूद पर मुंबई उच्च न्यायालय ने भी रेम्डेशिविर इंजेक्शन बिना सरकारी और डॉक्टर्स की अनुमति के वितरण को लेकर भी जांच के आदेश दिए हैl