देशभक्ति ध्यान’ से शुरू होगी देशभक्ति की पाठशाला, सीएम केजरीवाल 28 सितंबर को करेंगे लांच


सरकारी स्कूलों में देशभक्ति की पाठशाला शुरू होने जा रही है।
राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) द्वारा तैयारी की गई देशभक्ति पाठ्यचर्या की रूपरेखा अनुसार सभी सरकारी स्कूलों में देशभक्ति की पाठशाला ‘देशभक्ति ध्यान’ से शुरू होगी। पांच मिनट के इस ध्यान के दौरान शिक्षक और छात्र माइंडफुलनेस (सचेतन) का अभ्यास करेंगे।

नई दिल्ली। छात्रों को सक्रिय नागरिक बनाने और राष्ट्र निर्माण के लिए प्रतिबद्ध करने के उद्देश्य से राजधानी के सरकारी स्कूलों में देशभक्ति की पाठशाला शुरू होने जा रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 28 सितंबर को शहीद भगत सिंह की जयंती पर छत्रसाल स्टेडियम में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान देशभक्ति पाठ्यक्रम को लांच करेंगे।

वहीं, राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) द्वारा तैयारी की गई देशभक्ति पाठ्यचर्या की रूपरेखा अनुसार सभी सरकारी स्कूलों में देशभक्ति की पाठशाला ‘देशभक्ति ध्यान’ से शुरू होगी। पांच मिनट के इस ध्यान के दौरान शिक्षक और छात्र माइंडफुलनेस (सचेतन) का अभ्यास करेंगे। इसके साथ ही देश, स्वतंत्रता सेनानियों और किन्हीं पांच व्यक्तियों जिन्हें वे देशभक्त मानते हैं उनके प्रति आभार प्रकट करेंगे। इसके साथ ही देश के सम्मान की शपथ लेंगे। वहीं, आफलाइन कक्षाएं शुरू होने पर ये पाठ्यक्रम सभी कक्षा (नर्सरी से कक्षा 12 तक) के छात्रों के लिए लागू किया जाएगा।

फिलहाल नौवीं से 12वीं के छात्र ही पढ़ेंगे देशभक्ति का पाठ

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के निर्देश के अनुसार फिलहाल राजधानी में केवल नौवीं से 12वीं के छात्रों के लिए ही आफलाइन माध्यम से कक्षाएं शुरू होने की अनुमति है। शिक्षा निदेशालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक फिलहाल नौवीं से 12वीं तक के छात्र ही स्कूल आ रहे हैं। ऐसे में इन कक्षाओं के छात्रों की ही देशभक्ति का पाठ पढ़ाया जाएगा। वहीं, जब अन्य कक्षाओं के छात्रों के लिए स्कूल खुल जाएंगे तो उनको भी ये पाठ्यक्रम पढ़ाया जाएगा।

आठवीं तक के छात्रों के लिए रोजाना लगेगी देशभक्ति की कक्षा

शिक्षा निदेशालय के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक देशभक्ति पाठ्यक्रम लांच होने के बाद नर्सरी से आठवीं तक के छात्रों के लिए हर दिन देशभक्ति पाठ्यक्रम की एक कक्षा लगेगी। वहीं, नौवीं से 12वीं के छात्रों के लिए सप्ताह में दो दिन देशभक्ति की कक्षा लगेगी।

प्रत्येक स्कूल में तीन देशभक्ति नोडल शिक्षक होंगे नियुक्त देशभक्ति पाठ्यक्रम स्कूलों में सुचारू रूप से संचालित हो सके ये सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक सरकारी स्कूल में तीन देशभक्ति नोडल शिक्षक नियुक्त किए जाएंगे। तीन नोडल शिक्षकों नर्सरी से पांचवी, छठीं से आठवीं और नौवीं से 12वीं के आधार पर बांटा जाएगा। वहीं, एससीईआरटी द्वारा 29 सितंबर से पांच अक्टूबर के बीच सभी नोडल शिक्षकों के लिए एक ओरिएंटेशन सत्र भी आयोजित किया जाएगा।