खान-पान पर ध्यान रखकर नियंत्रित की जा सकती है टाइप 2 डायबिटीज, ऐसे दिखता है फर्क


टाइप 2 डायबिटीज वाले लोग कम कर सकते हैं शुगर लेवल।(फोटो: दैनिक जागरण)
हाल के एक अध्ययन के दौरान एक शोध दल ने पाया कि टाइप 2 डायबिटीज वाले लोग खान-पान के माध्यम से इसे प्रभावी ढंग से नियंत्रित कर सकते हैं। नेचर कम्युनिकेशंस में प्रकाशित ब्रिटिश कोलंबिया विश्वविद्यालय और इंग्लैंड के टेसाइड विश्वविद्यालय का शोध।

केलोव्ना [कनाडा], एएनआइ। दुनिया में तेजी से फैल रही टाइप 2 डायबिटीज के बारे में एक नया अध्ययन सामने आया है। इस बीमारी को लेकर शोध करने वाली टीम ने जानकारी दी है कि आहार विशेषज्ञों की देखरेख में खानपान पर ध्यान रखकर डायबिटीज को पूरी तरह नियंत्रित किया जा सकता है। यह शोध यूनिवर्सिटी आफ ब्रिटिश कोलंबिया और टीसाइड यूनिवर्सिटी ने किया और नेचर कम्युनिकेशंस में प्रकाशित है। शोध करने वाली टीम ने 12 सप्ताह तक आहार विशेषज्ञों की देखरेख में अपने परिणामों को तैयार किया है।

इस अध्ययन में टाइप 2 डायबिटीज के सभी मरीजों के लिए एक डाइट प्लान बनाकर दिया गया। उनकी इस डाइट में कम कैलोरी, कम कार्बोहाइड्रेट और ज्यादा प्रोटीन वाला खाना था। इस दौरान आहार विशेषज्ञों ने निरंतर देखरेख की और उनकी दवाइयों पर भी ध्यान रखा गया। अध्ययन करने वाली टीम के डा. जोनाथन लिटिल ने बताया कि नतीजों से साफ था कि संतुलित खानपान से डायबिटीज पर पूरी तरह नियंत्रण किया जा सकता है।

अध्ययन करने पर जानकारी मिली कि जिन डायबिटीज मरीजों ने अपने खानपान में कम कैलोरी, कम कार्बोहाइड्रेट और उच्च प्रोटीन वाले खाने को डाइट में शामिल किया, उनमें डायबिटीज की दवा की मात्रा को कम करना पड़ा। स्थिति यह रही कि 12 सप्ताह में एक तिहाई से ज्यादा मरीजों में दवाई की आवश्यकता ही नहीं रही। डा. जोनाथन ने बताया कि इन मरीजों में निर्धारित खानपान से नियंत्रित ग्लूकोज, वजन और सिस्टोलिक रक्तचाप के साथ ही समग्र स्वास्थ्य में सुधार देखा गया।

कोरोना और डायबिटीज

कोरोना संक्रमित लोगों में शुगर बढ़ती है। कुछ दिन बाद लेवल सामान्य हो जाता है। लेकिन कुछ लोगों में शुगर लेवल नहीं घटता। कोरोना के 3 महीने बाद भी शुगर लेवल ऊपर बना रहता है।

कोरोना में ध्यान दें

कोरोना होने पर डायबिटीज की जांच जरूर कराएं। शुगर बढ़ी है तो डॉक्टर से जरूर मिलें। रोज हल्का व्यायाम जरूर करें। खान-पान पर विशेष ध्यान दें।