भारत ने एक और कीर्तिमान हासिल किया, 70 करोड़ COVID-19 वैक्सीन की खुराक लगाई

 

भारत ने एक और कीर्तिमान हासिल किया, 70 करोड़ COVID-19 वैक्सीन की खुराक लगाई
 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि देश ने अब तक 70 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी है। मंत्री ने कहा कि इनमें से 10 करोड़ से अधिक खुराक केवल पिछले 13 दिनों में दी गई।

नई दिल्ली, एजेंसी। भारत ने मंगलवार, 7 सितंबर को COVID-19 बीमारी के खिलाफ देश की आबादी को टीका लगाने की अपनी यात्रा में एक और कीर्तिमान हासिल किया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि देश ने अब तक 70 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी है। मंत्री ने कहा कि इनमें से 10 करोड़ से अधिक खुराक केवल पिछले 13 दिनों में दी गई। बीते दिन ही, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत हर दिन रिकार्ड 1.25 करोड़ कोविड वैक्सीन खुराक लगा रहा है। पीएम ने बताया था कि यह आंकड़ा एक साथ कई देशों की जनसंख्या से अधिक है।

मनसुख मंडाविया ने ट्विटर पर जानकारी साझा करते हुए भारत के टीकाकरण कार्यक्रम की प्रगति पर एक ग्राफिक साझा किया। इसमें बताया गया, 'जनवरी में देश में टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के बाद देश में पहले 10 करोड़ लोगों को टीका लगाने में भारत को 85 दिन लगे। वैक्सीन के अगले 10 करोड़ डोज देने में 45 दिन लगे, 29 दिन में 20-30 करोड़, 24 दिन में 30-40 करोड़, 40-50 करोड़ में 20 दिन, 50-60 करोड़ खुराक देने में 19 दिन लगे। केवल 13 दिनों में अब तक की सबसे तेज 60-70 करोड़ वैक्सीन लगाई गई।

पीएम मोदी ने बताया, 'भारत आज एक दिन में सवा करोड़ टीके लगाकर रिकार्ड बना रहा है। जितने टीके भारत आज एक दिन में लगा रहा है, वो कई देशों की पूरी आबादी से भी ज्यादा है। भारत के टीकाकरण अभियान की सफलता, प्रत्येक भारतवासी के परिश्रम और पराक्रम की पराकाष्ठा का परिणाम है।'

भारत ने इस साल 16 जनवरी को स्वास्थ्य कर्मियों को डोज लगाने के साथ ही अपना COVID-19 टीकाकरण अभियान शुरू किया था। टीकाकरण अभियान का धीरे-धीरे विस्तार किया गया। फिर 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को और अंत में 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के सभी लोगों को शामिल किया गया। अभियान के दौरान, कई बार देश को वैक्सीन की खुराक की कमी का सामना करना पड़ा है, लेकिन पिछले दो से तीन महीनों में स्थिति में काफी सुधार हुआ है और देश ने प्रतिदिन एक करोड़ खुराक देने के अपने लक्ष्य को पार कर लिया है।

भारत कोविशील्ड, स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सीन और स्पुतनिक वी COVID-19 टीकों का इस्तेमाल करता है। जानसन एंड जानसन की सिंगल-शाट वैक्सीन को भी देश में देर से मंजूरी दी गई है, लेकिन डोज अभी तक उपलब्ध नहीं कराया गया है।