दिल्ली में AAP की राष्ट्रीय परिषद की बैठक, सीएम केजरीवाल ने कहा- पद मांगने की इच्छा न करें कार्यकर्ता

 

आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की आनलाइन बैठक
दिल्ली में आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की आनलाइन बैठक चल रही है। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले डेढ़ साल से दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। दिल्ली सरकार ने भी इसे रोकने के लिए बेहतर प्रयास किए हैं।

नई दिल्ली। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की आनलाइन बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पिछले डेढ़ साल से दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। दिल्ली सरकार ने भी इसे रोकने के लिए बेहतर प्रयास किए हैं। दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी ने इस दौरान जन कल्याण के लिए बहुत काम किए हैं। इसके लिए दिल्ली सरकार की चारों ओर सराहना हो रही है।

केजरीवाल ने कहा कि देश भर से हमारे पास जानकारी आ रही थी कि आम आदमी पार्टी लोगों की बहुत मदद कर रही है। दिल्ली में दिलीप पांडेय ने बहुत काम किया है। देश भर में पार्टी के अनेक दिलीप पांडेय पैदा हो गए। यही करने के लिए आम आदमी पार्टी बनी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पार्टी के दो आदर्श हैं, सरदार भगत सिंह और डा. भीमराव अंबेडकर। केवल एक ही चीज कार्यकर्ता समझ लें कि कैसे हम जनता की सेवा कर सकते हैं, यह उनके मन में हमेशा रहना चाहिए। आजादी में बहुत से लोगों का योगदान है। मगर हमारी पार्टी के दो आदर्श हैं। सरदार भगत सिंह और डा. भीमराव अंबेडकर। भगत सिंह की तरह कुर्बादी देने के लिए हमारे कार्यकर्ताओं को तैयार रहना चाहिए। अंबेडरकर के योगदान को कभी नहीं भु़लाया जा सकता है।

पद मांगने की इच्छा न करें कार्यकर्ता

राष्ट्रीय परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा कि कार्यकर्ता पद की इव्छा न करें बल्कि ऐसा काम करें कि पार्टी जाकर आपके पास कहे कि आप यह पद ले लें। पद मांग रहे हो तो आप पद के काबिल है। पद की इच्छा जाग गई तो समझो मन में लोभ आ गया है। पद की इच्छा त्यागनी पड़ेगी। पद की इच्छा दूूर करने का मंत्र है कि आठ घंटे काम कर रहे हो, तो दस घंटे मन लगाकर करो। पद तो मिल जाएगा। नहीं तो भाजपा, कांग्रेस और आप में कोई फर्क नहीं रह जाएगा। यह हमने नहीं हाेने देना है।केजरीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय परिषद में नए लोग भी जुड़े हैं, मैं परिषद के सभी सदस्यों का स्वागत करता हूूं। सभी पार्टी की नीतियाेें को आगे बढ़ाते हुए समर्पण भाव से काम करें।