ईडी के नोटिस पर AAP विधायक राघव चड्ढा ने कहा- अरविंद केजरीवाल के बढ़ रहे प्रभाव से घबराई भाजपा

 

ED ने आम आदमी पार्टी को भेजा नोटिस, राघव चड्ढा पत्रकार वार्ता कर देंगे जवाब

केंद्र सरकार को घेरते हुए विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि यह एजेंसी भाजपा के प्रकोष्ठ की तरह काम कर रही है। साथ ही कहा कि अरविंद केजरीवाल के बढ़ रहे प्रभाव से भाजपा घबरा गई है इसलिये ऐसे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं।

नई दिल्ली । दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार और केंद्र सरकार के बीच एक बार फिर राजनीतिक जंग शुरू होने के आसार नजर आ रहे हैं। ताजा मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने आम आदमी पार्टी को नोटिस जारी किया है। सोमवार दोपहर में AAP विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार एजेंसियों का गलत उपयोग कर रही है। मोदी जी की केंद्र सरकार कितने भी नोटिस भेज ले, हम डरने वाले नही हैं।  उन्होंने कहा कि ईडी मोदी जी की पसंदीदा एजेंसी है। नोटिस पंकज गुप्ता के नाम से भेजा गया है। मनी लान्ड्रिंग मामले में यह नोटिस आया है। उनसे बयान दर्ज कराने के लिए कहा गया है। केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि यह एजेंसी भाजपा के प्रकोष्ठ की तरह काम कर रही है। साथ ही कहा कि अरविंद केजरीवाल के बढ़ रहे प्रभाव से भाजपा घबरा गई है, इसलिये ऐसे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। 

इससे पहले ईडी के नोटिस मिलने पर AAP विधायक राघव चड्ढा ने ट्वीट कर कहा- 'मोदी सरकार की फेवरेट एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ED) की तरफ से आम आदमी पार्टी को लव लेटर मिला है। मैं आम आदमी पार्टी के मुख्यालय पर दोपहर 1 बजकर 30 मिनट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा और आप के खिलाफ बीजेपी की बदले की कार्रवाई को एक्पोज करूंगा।'

मिली जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय ने आम आदमी पार्टी को चार फर्जी कंपनियों के जरिए चंदा लेने के आरोप में नोटिस भेजा है। पूरा मामला फरवरी, 2014 का बताया जा रहा है। इस मामले में आरओसी ने 4 फर्जी कंपनियों के जरिये आम आदमी पार्टी को 2 करोड़ रुपये मिलने की शिकायत पुलिस से की थी। कहा जा रहा है कि इतनी बड़ी रकम देहरादून की एक कंपनी ने शैल कंपनियों के जरिये दी थी।

शिकायत के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने वर्ष 2017 में चार फर्जी कंपनियों पर प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत केस दर्ज किया था। इन चारों फर्जी कंपनियों पर आरोप है कि इन्होंने वर्ष 2014 में 50-50 लाख रुपये के चार चेक आम आदमी पार्टी को दिए गए थे। वहीं, शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने भी कार्रवाई करते हुए 21 अगस्त, 2020 को 2 करोड़ रुपये चंदे के मामले मुकेश कुमार और सुधांशु बंसल को गिरफ्तार किया था।