राहुल गांधी ने कांग्रेस नेताओं से कहा- गोवा में हो BJP की हार, शुरू करें प्रभावशाली चुनाव प्रचार

 

राहुल गांधी ने कांग्रेस नेताओं से कहा- गोवा में हो BJP की हार, शुरू करें प्रभावशाली चुनाव प्रचार
ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) भी तटीय राज्य में चुनाव मैदान में कूद सकती है। इस संकेत पर भी गांधी की पार्टी नेताओं के साथ बैठक हुई। इसके अलावा आम आदमी पार्टी (आप) भी चुनाव की तैयारी कर रही है।

पणजी, पीटीआइ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने गोवा में अपनी पार्टी के नेताओं को निर्देश दिया है कि वे राज्य में आक्रामक अभियान शुरू करें और सत्तारूढ़ भाजपा की हार सुनिश्चित करें। कांग्रेस के गोवा डेस्क के प्रभारी दिनेश गुंडू राव ने एक बयान में कहा कि गांधी ने पार्टी नेताओं की एक बैठक के दौरान यह निर्देश दिया। बताया गया कि शुक्रवार को गांधी की अध्यक्षता में नई दिल्ली में एक बैठक हुई थी।

राव के अलावा, गोवा विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के वरिष्ठ चुनाव पर्यवेक्षक पी चिदंबरम, महासचिव (संगठन) के सी वेणुगोपाल, जीपीसीसी अध्यक्ष गिरीश चोडनकर और कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता दिगंबर कामत ने बैठक में भाग लिया।

राव ने कहा, 'हमारे नेता राहुल गांधी चाहते हैं कि गोवा में कांग्रेस पार्टी आकांक्षाओं को पूरा करे और गोवा के लोगों की भावनाओं का सम्मान करे।' उन्होंने कहा कि गांधी ने पार्टी नेताओं से आक्रामक अभियान शुरू करने और आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार सुनिश्चित करने को कहा।राव ने कहा, 'हम चुनाव-2022 की ओर अपने विजय मार्च में अपने शुभचिंतकों, सहानुभूति रखने वालों, समर्थकों को साथ लेकर चलेंगे। हम टीम भाजपा को हराने के लिए निश्चित हैं।'

2017 के गोवा विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस ने 40 सदस्यीय सदन में सबसे अधिक 17 सीटें जीती थीं, भाजपा को 13 तक सीमित कर दिया था। हालांकि, कांग्रेस को झटका तब लगा जब भगवा पार्टी ने क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया और सत्ता में आ गई। वहीं, फिर विधानसभा में कांग्रेस की ताकत घटकर पांच विधायकों पर आ अटकी, जब उसके कई विधायक दल बदल कर सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए।

वहीं, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) भी तटीय राज्य में चुनाव मैदान में कूद सकती है। इस संकेत पर भी गांधी की पार्टी नेताओं के साथ बैठक हुई। इसके अलावा आम आदमी पार्टी (आप) भी चुनाव की तैयारी कर रही है। इस हफ्ते की शुरुआत में, पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने राज्य का दौरा किया और घोषणा की कि अगर सत्ता में आती है, तो उनकी पार्टी यह सुनिश्चित करेगी कि निजी क्षेत्र सहित 80 फीसद नौकरियां स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित होंगी। उन्होंने इन क्षेत्रों के सामान्य होने तक खनन और पर्यटन उद्योगों पर निर्भर परिवारों को 5,000 रुपये मासिक पारिश्रमिक देने का भी आश्वासन दिया।