ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम में बोले पीएम मोदी, समय की कसौटी पर खरी उतरी भारत-रूस की दोस्ती

 

ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम को संबोधित कर रहे हैं पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए मुझे खुशी हो रही है और इस सम्मान के लिए मैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को धन्यवाद देता हूं। उन्होंने कहा कि भारतीय इतिहास और सभ्यता में संगम का एक विशेष अर्थ है।

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम को संबोधित कर रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने भारत-रूस की दोस्ती के बारे में बात की और कहा कि दोनों देशों की दोस्ती समय की कसौटी पर खरी उतरी है।

उन्होंने कहा, 'ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए मुझे खुशी हो रही है और इस सम्मान के लिए मैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को धन्यवाद देता हूं।' उन्होंने कहा कि भारतीय इतिहास और सभ्यता में 'संगम' का एक विशेष अर्थ है। इसका अर्थ नदियों/लोगों/विचारों का संगम या एक साथ आना है।

उन्होंने कहा, 'मेरी नजर में व्लादिवोस्तोक वास्तव में यूरेशिया और प्रशांत का 'संगम' है। मैं रूसी सुदूर पूर्व के विकास के लिए राष्ट्रपति पुतिन के दृष्टिकोण की सराहना करता हूं। इस विजन को साकार करने में भारत रूस का एक विश्वसनीय भागीदार होगा।'

गौरतलब है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन हर साल इस्टर्न इकोनॉमिक फोरम का आयोजन कराते हैं। इस साल 2 सितंबर यानी कल व्लादिवोस्तोक में यह शुरू हुआ था और यह चार सितंबर तक चलेगा। इस फोरम का मुख्य उद्देश्य एशिया प्रशांत क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय सहयोग का विस्तार और आर्थिक विकास का समर्थन करना है।