प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन से जुड़ी हर डिटेल, कैसे आसान हो जाएगा लोगों का इलाज

 

जानिये- प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन से जुड़ी हर डिटेल, कैसे आसान हो जाएगा लोगों का इलाज

 अब प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन  दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश लागू होगा। इसके तहत लोगों के डिजिटल हेल्थ आइडी कार्ड बनाए जाएंगे जिससे इलाज में आसानी होगी।

नई दिल्ली,  डिजिटल डेस्क। दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर के करोड़ों लोगों के लिए केंद्र में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी सरकार की ओर बड़ी राहत की खबर आ रही है। आने वाले दिनों में प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश लागू होगा। इसके तहत लोगों के डिजिटल हेल्थ आइडी कार्ड बनाए जाएंगे। इस हेल्थ आइडी कार्ड के जरिये लोगों का इलाज आसान और सुलभा हो सकेगा। इस हेल्थ कार्ड में हर वह जानकारी महैया होगी, जो व्यक्ति के इलाज को आसान बनाएगी। मिली ताजा जानकारी के मुताबिक, आगामी 27 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस महत्वाकांक्षी स्कीम की घोषणा करेंगे।

जानिये- इस स्कीम के बारे में

जानकारों की मानें तो प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन  के तहत बनाए जाने वाले हेल्थ आइडी में शख्स कीव पूरी मेडिकल डिटेल और डेटा मौजूद रहेगा। इसके तहत हर भारतीय व्यक्ति को यूनिक हेल्थ आइडी उपलब्ध कराई जाएगी। यह यानी पीएम-डीएचएम डेटा दरअसल, सूचना और बुनियादी ढांचा सेवाओं की एक पूरी कड़ी है। बताया गया है कि पीएम-डीएचएम के तहत देश के लोगों मुहैया कराई जाने वाली डिजिटल हेल्थ आइडी में प्रत्येक नागरिक का स्वास्थ्य रिकार्ड दर्ज होगा, जिससे उसके इलाज में भी सहूलियत हो।

दर्ज होगी हर चीज

बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत देश के प्रत्येक व्यक्ति की हेल्थ आइडी उसके इलाज की राह आसान करेगी। हेल्थ-आइडी बनाने का विकल्प चुनने की स्थिति में लाभार्थी का नाम, जन्म तिथि और वर्ष के साथ लिंग और मोबाइल नंबर के अलावा पता भी जुटाया जाएगा। इसके बाद हेल्थ आइडी बन जाएगी।

कैसे करेगा काम

प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत देश के प्रत्येक व्यक्ति के लिए विशिष्ट आइडी बनाई जाएगी। इसे बनाने के लिए आधार कार्ड और मोबाइल फोन नंबर जैसे विवरण जुटाए जाएंगे। इतना ही नहीं, स्वास्थ्य आइडी कार्ड भी बनाया जाएगा, जिसकी मदद से इलाज आसान हो पाएगा। इसके तहत जल्द ही तीन बुनियादी प्लेटफार्म के तहत हेल्थ आइडी, डाक्टर का पंजीकरण और स्वास्थ्य केंद्रों का पंजीकरण शुरू कर दिया जाएगा।

आसान होगा व्यक्ति का इलाज

प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन के तहत बनने वाले यूनिक डिजिटल हेल्थ आइडी कार्ड मेें हर वह ब्योरा दर्ज होगा, जो इलाज के समय सहायक होगा। मसलन, उम्र, जन्म स्थान के साथ उसकी बीमारी, गंभीर बीमारी और किस अस्पताल और डाक्टर के तहत उसका इलाज हुआ। इतना ही नहीं दवाइयों आदि की जानकारी भी इस यूनिक डिजिटल हेल्थ आइडी में दर्ज होने से इसका लाख मरीज को ही होगा।