यूपी, बिहार समेत देश के कई हिस्सों में बाढ़ से हालात खराब, जानें क्या है मौजूदा स्थिति

 

बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने पहुंची केंद्रीय टीम
भागलपुर में बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए आज एक केंद्रीय टीम आएगी जो आन रोड बाढ़ से क्षति का आकलन करेगी। वहीं बागमती नदी में उफान के चलते शिवहर में एकबार फिर बाढ़ का संकट उत्पन्न हो गया है।

नई दिल्ली। देश में इन दिनों बाढ़ के कारण कई राज्यों में चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। इस समय उत्तर प्रदेश और बिहार के इलाकों में बाढ़ के कारण लोग काफी परेशान हैं। ऐसे में एक केंद्रीय टीम बिहार के कुछ इलाकों में बाढ़ के कारण हुए नुकसान का जायजा लेने पहुंची।

उत्तर प्रदेश के गोंडा में बाढ़ के पानी में डूबकर बालिका की मौत

उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में इन दिनों लगातार बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति है। यूपी के गोंडा जिले में बाढ़ के पानी में डूबकर एक बालिका की मौत हो गई है। केंद्रीय जल आयोग के मताबिक, एल्गिन ब्रिज पर घाघरा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 46 सेंटीमीटर व अयोध्या में सरयू नदी लाल निशान से 12 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण अधिकारी राजेश श्रीवास्तव ने बताया कि तहसील तरबगंज के 10 गांव की 2866 आबादी बाढ़ से प्रभावित है। प्रभावित क्षेत्र में उपचार के लिए 23 मेडिकल टीम गठित की गई हैं। वहीं, गोरखपुर में भी बाढ़ के कारण स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। जिले में अब तक ढाई लाख लोग प्रभावित हैं।

बिहार के भागलपुर में बाढ़ के कारण 50 हजार हेक्टेयर फसल हुई बर्बाद

भागलपुर में बाढ़ के कारण 50 हेक्टेयर फसल बर्बाद हो गई है। यहां बाढ़ से हुए नुकसान का आकलन करने के लिए आज एक केंद्रीय टीम आएगी, जो आन रोड बाढ़ से क्षति का आकलन करेगी। वहीं बागमती नदी में उफान के चलते शिवहर में एकबार फिर बाढ़ का संकट उत्पन्न हो गया है। यहां बाढ़ का पानी पिपराही और पुरनहिया के निचले क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है। इस साल चौथी बार जिले के लोग बाढ़ के कारण इस संकट का सामना कर रहे हैं। बाढ़ का पानी बेलवा, नरकटिया, दोस्तिया व अदौरी के निचले इलाकों में फैल रहा है। इसके अलावा दरभंगा, समस्तीपुर और मुजफ्फपुर में भी बाढ़ के कारण लोगों का हाल बुरा है।

भागलपुर का एक स्कूल सुर्खियों में

भागलपुर का एक स्‍कूल इन दिनों सुर्खियों में बना हुआ है। इस स्कूल का संचालन नाव पर हो रहा है। दरअसल, कोसी और सीमांचल का इलाका इन दिनों बाढ़ की चपेट में है। इस कारण यहां तमाम तरह की गतिविधियों पर ब्रेक लग गया है। इस स्थिति को देखते हुए कटिहार के तीन युवाओं ने 'नाव पर स्‍कूल' चलाकर बच्‍चों को शिक्षा देने का नायाब तरीका निकाला है। बताया जा रहा है कि पिछले छह महीने से यहां यही हालात हैं।

कर्नाटक में लगातार बारिश से बढ़ा नदी का जलस्तर

कर्नाटक में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिस कारण नदियों में जलस्तर बढ़ गया है। सोमवार को कालाबुरागी के अफजलपुर तालुका में सोना बैराज से भीमा नदी में लगभग 35,088 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। कर्नाटक के कालाबुरागी जिले में भीमा नदी में 13,000 क्यूसेक पानी छोड़ने के बाद सोमवार को रात 10 बजे सोना बैराज का जलस्तर 405.30 मीटर दर्ज किया गया। कर्नाटक नीरावरी निगम लिमिटेड के कार्यकारी अभियंता अशोक झाका ने सोमवार को कहा, 'क्षेत्र में भारी बारिश के बाद, सोना बैराज के गेट कालाबुरागी में भीमा नदी में 13,000 क्यूसेक पानी छोड़ने के लिए खोले गए।'

7-9 सितंबर तक कई राज्यों में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग ने 7 से 9 सितंबर तक उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र के कई राज्यों में भारी बारिश की संभावना जताई है। विभाग का अनुमान है कि मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तरी पंजाब, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान के कई इलाकों में आंधी-तूफान के साथ भारी बारिश होने की आशंका है। वहीं, दक्षिण भारत के तीन राज्यों में भी अगले तीन दिनों तक भारी बारिश हो सकती है।