सदन की बैठक में लिए गए अहम फैसले, स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार को मिली बड़ी सहूलियत

 

कानपुर नगर निगम सदन में सत्र को संबोधित करतीं महापौर प्रमिला पांडेय।

 कानपुर शहर को और भी स्मार्ट बनाने के लिए बुधवार को सदन में चर्चा हुई। इसके अलावा शहर की चुन्नीगंज वर्कशाप में दुकानें और शापिंग कांप्लेक्स बनाने प्रत्येक वार्ड को एलईडी से रोशन करने के प्रस्ताव भी पास किए गए।

कानपुर।शहर में विकास कार्यों को गति देने के लिए बुधवार को नगर निगम सदन बुलाया गया। कानपुर नगर निगम सदन के शाुरू होने का समय वैसे तो सुबह 11 बजे नियत किया गया था, लेकिन पार्षदो की उपस्थिति कम होने के कारण महापौर प्रमिला पांडेय ने सदन के समय 12ः30 बजे कर दिया। 12ः30 बजे सदन शुरू हुआ, वन्देमातरम के बाद नई विज्ञापन नियमावली का प्रस्ताव सदन के समक्ष रखा गया। महापौर ने पार्षदों से कहा विज्ञापन नियमावली के बारे में यदि कोई बात रखनी तो बतायें, अन्यथा इसे पास करें। पार्षदों ने दो मिनट में एक स्वर में नई विज्ञापन नियमावली को पास कर दिया। 

सदन के दौरान माइक में आई तकनीकी खराबी: नगर निगम सदन के दौरान माइक खराब होने को लेकर पार्षदों ने नाराजगी जताई, जिस पर नाराज महापौर ने केयर टेकर सुनील निगम को सदन पटल पर तलब कर लिया। उन्होंने बताया कि तकनीकी खराबी के कारण माइक खराब है, जिसे ठीक किया जा रहा है, इसके एवज में कार्डलेस माइक मंगाए गए हैं। इस पर महापौर ने कहा कि सदन की अगली बैठक में सभी माइक ठीक रहें। 

हर वार्ड में लगेंगी एलईडी लाइटें: सदन की बैठक में महापौर प्रमिला पांडेय ने कहा कि एलईडी लाइट अगले हफ्ते से लगना शुरू हो जाएंगी। एक साथ प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा गया था, जिसे शासन ने वापस कर दिया, अब टुकड़ों-टुकड़ों में प्रस्ताव बनाया गया है, हर वार्ड में 10-10 एलईडी लाइट त्योहार से पहले लगने लगेंगी। इसके बाद शोर शराबा मचने पर महापौर ने थोड़ी देर के लिये सदन फिर स्थगित कर दिया।

ये भी हुईं घोषणाएं: स्थगित होने के बाद सदन 01: 05 पर पुन: शुरू हुआ। इसमें चुन्नीगंज वर्कशाप में शापिंग कांप्लेक्स और दुकान बनाने के लिए स्मार्ट सिटी मिशन को स्वीकृति दे दी गई। इसके अलावा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिवार को हाउस, वाटर और सीवर टैक्स से छूट देने की बात कही गई। 

अब शहर में लागू होगी नई नियमावली: सदन में नई विज्ञापन नियमावली के प्रस्ताव पर भी मुहर लगी। नई नियमावली को चार भागों में बांटा गया है। अब कुछ ऐसा होगा स्वरूप:  

  • गृह कर से  जुड़ेगा विज्ञापन शुल्क
  • मकानों के ऊपर होर्डिंग लगाने वालों को भी शुल्क देना होगा, अन्यथा गृह कर में शुल्क जुड़ जायेगा। 
  • छतों पर विज्ञापन लगाने वाले को थर्ड पार्टी बीमा भी कराना होगा।
  • मेट्रो भी विज्ञापन शुल्क के दायरे में आएगा। 
  • नगर निगम सीमा की तरफ विज्ञापन होने पर मेट्रो को भी शुल्क देना होगा। इसके अलावा रेलवे, रोडवेज, केस्को जो भी सरकारी विभाग नगर निगम सीमा की तरफ विज्ञापन बोर्ड लगायेंगे, उनको भी शुल्क देना होगा। 

इस प्रकार लगेगा विज्ञापन शुल्क: 

  • दीवार, पब्लिक प्लेस और रोड पर

सुपर श्रेणी - 3200 रुपए

ए श्रेणी - 2400 रुपए

बी श्रेणी - 2000 रुपए

सी श्रेणी - 1600 रुपए

(नोट- रेट प्रति वर्गमीटर प्रति वर्ष।)

  • बस शेल्टर, पुलिस बूथ आदि पर

सुपर श्रेणी - 6000 रुपए

ए श्रेणी - 5000 रुपए

बी श्रेणी - 4000 रुपए

सी श्रेणी - 3000 रुपए

(नोट- रेट प्रति वर्गमीटर प्रति वर्ष।)

सुपर श्रेणी में आते हैं यह क्षेत्र: मुरे कंपनी पुल से मेघदूत तिराहा, कचहरी चौराहा से लालइमली, बड़ा चौराहा से लालइमली, चुन्नीगंज चौराहा से मोतीझील गेट, रानीघाट से मर्चेंट चौंबर तक समेत अन्य।

ए श्रेणी में विज्ञापन एरिया: घंटाघर चौराहा से टाटमिल चौराहा, बाकरगंज चौराहा से किदवई नगर, यशोदा नगर बाईपास तक, घंटाघर चौराहा से डिप्टी पड़ाव से सीसामऊ थाना, अशोक नगर से रामकृष्ण नगर समेत अन्य।

बी श्रेणी विज्ञापन एरिया: अहिरवां, सनिगवां, पोखरपुर, हंसपुरम, नया शिवली रोड से बारासिरोही नहर तक, अवधपुरी मोड़ से सेल टैक्स रोड तक, कंपनीबाग चौराहा से रामचंद्र चौराहा, बगिया क्रॉसिंग से केस्को चौराह समेत अन्य।

ये भी आयेंगे शुल्क के दायरे में: गुब्बारे, वाहनों से प्रचार, शामियाना, जल सुविधा स्थल पर, ट्री-गार्ड, मैदान पर और ट्रैफिक बूथ।