राहुल गांधी ने किया ट्वीट जो नफरत करें वो योगी कैसा? पढ़िए किस अंदाज में सीएम योगी आफिस से मिला जवाब

 

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के इंटरनेट मीडिया एकाउंट से योगी आदित्यनाथ को लेकर ट्वीट किया गया।
कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के इंटरनेट मीडिया एकाउंट से दो लाइन का एक ट्वीट किया गया इस ट्वीट में लिखा गया कि जो नफरत करें वो योगी कैसा। इस पर योगी आदित्यनाथ आफिस के ट्विटर हैंडल से उसी तरह से जवाब भी दिया गया।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के इंटरनेट मीडिया एकाउंट से दो लाइन का एक ट्वीट किया गया, इस ट्वीट में लिखा गया कि जो नफरत करें वो योगी कैसा। इस पर योगी आदित्यनाथ आफिस के ट्विटर हैंडल से उसी तरह से जवाब भी दिया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ के आफिस से राहुल गांधी के ट्वीट पर दिए गए जवाब में लिखा गया है कि जिन्ह के मन रही भावना जैसी। प्रभु मूरति तिन्ह देखी तैसी।। और हां श्रीमान राहुल जी! अपराधियों और उपद्रवियों के साम्राज्य पर बुलडोजर चलाना अगर नफरत है, तो ये नफरत अनवरत जारी रहेगी...

ये ट्वीट इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया, हजारों लोगों ने योगी आदित्यनाथ आफिस के इस ट्वीट को रिट्वीट भी किया, इसके अलावा काफी संख्या में लोगों ने इसे पसंद भी किया और कमेंट भी किया।

इससे पहले भी कांग्रेस नेता राहुल गांधी के आम के बयान पर भी सीएम योगी ने उन्हें नसीहत दी थी। राहुल गांधी ने एक कार्यक्रम में बयान दिया था कि उनको उत्तर प्रदेश की बजाय आंध्र प्रदेश के आम ज्यादा पसंद हैं। इस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तंज किया था, एक ट्वीट के जरिए मुख्यमंत्री ने कहा था कि राहुल गांधी का टेस्ट ही विघटनकारी है। उनके विघटनकारी संस्कारों से पूरा देश परिचित है। इसी के साथ उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी पर कुसंस्कारों का प्रभाव इस कदर प्रभावी है कि उन्होंने आम जैसे फल के स्वाद को भी क्षेत्रवाद में बांट दिया। अब वो पार्टी पर कमेंट करने से आगे बढ़कर फलों को भी बांटने लगे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राहुल गांधी को नसीहत देते हुए कहा था कि कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत का स्वाद एक है, वह इस बात का हमेशा ध्यान रखें।

दरअसल ये वाक्या एक मीडियाकर्मी के सवाल पूछने पर हुआ था। मीडियाकर्मी ने जब राहुल गांधी से पूछा था कि क्या उन्हें यूपी के आम पसंद हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि वह यूपी का आम पसंद नहीं करते बल्कि उन्हें आंध्र प्रदेश के आम पसंद हैं। उनके इसी बयान की चहुंओर निंदा हुई थी, इसे देश को बांटने वाले बयान के रूप में देखा गया था।