अफगानिस्तान हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करेगा पीएम मोदी का विमान, पाक ने दी उड़ान भरने की मंजूरी

 

अमेरिका रवाना होते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।(फोटो: पीएमओ ट्विटर)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को चार दिवसीय यात्रा पर अमेरिका रवाना हो गए। इस यात्रा में वह कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित विश्व के अन्य नेताओं के साथ वार्ता करेंगे और संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित करेंगे।

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार दिवसीय यात्रा पर बुधवार को अमेरिका रवाना हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका के लिए नान-स्टाप उड़ान अफगानिस्तान के रास्ते से नहीं जाएगी। पीएम मोदी का विमान अफगानिस्तान के रास्ते से बचने के लिए पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र के ऊपर से उड़ान भरेगा। इसको लेकर पाकिस्तान ने अपने हवाई क्षेत्र(एयरस्पेस) के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। सरकारी सूत्रों के अनुसार, भारत ने प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका की उड़ान के लिए पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र के उपयोग के संबंध में पाकिस्तान से अनुमति मांगी थी जिसके लिए पाकिस्तान ने मंजूरी दे दी थी। एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने एएनआई को बताया कि पाकिस्तान ने भारत को अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति दी है।

पहले अनुमति देने से इनकार कर चुका है पाकिस्तान

हालांकि, इससे पहले विशेष रूप से पाकिस्तान ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी को 2019 में भारत द्वारा जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद विदेश यात्रा के लिए तीन बार पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति से इनकार कर दिया था। जब पीएम मोदी अमेरिका और जर्मनी का दौरा कर रहे थे और राष्ट्रपति कोविंद आइसलैंड का दौरा कर रहे थे तब पाकिस्तान ने अनुमति देने से इनकार कर दिया था।

चार दिवसीय दौरे पर रवाना हुए पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज चार दिवसीय यात्रा पर अमेरिका रवाना हो गए। इस यात्रा में वह कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित विश्व के अन्य नेताओं के साथ वार्ता करेंगे और संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका के लिए विमान पर सवार होते हुए। वहां वह कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित विश्व के अन्य नेताओं के साथ वार्ता करेंगे और संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित भी करेंगे।’’