छतरपुर जिले के बच्‍चों में तेजी से फैल रहा वायरल बुखार

 

Viral fever spreading rapidly among the children of mp district Chhatarpur
छतरपुर जिले के बच्चों में वायरल बुखार की तादात तेजी से बढ़ती जा रही है। जिला हॉस्पिटल में ऐसे बच्चों की संख्या बढ़ रहीं हैं। बच्चे बुखार उल्टी और निमोनिया जैसी बिमारियों से पीड़ित है। लोगों का मानना है कि सरकार को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए।

छतरपुर, एएनआइ। मध्य प्रदेश में बदलते मौसम की वजह से कई बच्चों में वायरल बुखार और निमोनिया के मामले सामने आए हैं। छतरपुर जिले के बच्चों में वायरल बुखार की तादात तेजी से बढ़ती जा रही है। जिला हॉस्पिटल में ऐसे बच्चों की संख्या बढ़ रहीं हैं। बच्चे बुखार, उल्टी और निमोनिया जैसी बिमारियों से पीड़ित है।

बच्चों के बीमार होने का सिलसिला पहले यूपी के जिलों से सामने आया था, तो वहीं अब मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में देखने को मिल रहा है। यूपी की स्थिति को देखते हुए छतरपुर के बच्चों की चिंता बढ़ गई हैं।

छतरपुर अस्पताल में हर रोज लगभग 1,000 मरीज को देखा जा रहा है जिसमें आधे मरीज बच्चों में वायरल बुखार के होते है। ज्यादातर बच्चे सर्दी-खांसी से पीड़ित हैं। अस्पताल में चिकित्सक नहीं होने से भी मरीजों को इलाज में परेशानी आ रही है।

बाल रोग विशेषज्ञ, जिला अस्पताल ने कहा कि कई बच्चों में वायरल बुखार, उल्टी के लक्षण आते हैं। बच्चों में निमोनिया के मामलों की संख्या भी अधिक है। मौसमी बीमारी फैलने से बच्चे बीमार पड़ रहे हैं, लेकिन चिंता की बात यह है। साथ ही बच्चों में ठीक होने की दर अच्छी है और बच्चों की साफ सफाई बेहद जरूरी है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के कई जिलों के हॉस्पिटलों में बीमार बच्चों का तांता लगा हुआ है। राज्य में बीमार बच्चों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही हैं। ऐसे ही मामलें बिहार में भी देखने को मिल रहे है, जहां बच्चो में वायरल बुखार की शिकायतें ज्यादा मिल रहीं हैं। कयास ये भी लगाएं जा रहे है कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है।

छतरपुर में बच्चों के बिमार पड़ने का कारण वायरल बुखार या डेंगू या एन्सेफलाइटिस या कुछ और है, अभी तक इसके बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं है। बच्चों में वायरल बुखार इस बीमारी को लेकर रहस्य अभी भी बना हुआ है। ऐसे में लोगों का मानना है कि सरकार को बच्चों की बीमारी को लेकर गंभीर होना चाहिए।