कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध राजनीतिक हो गया है: केंद्रीय मंत्री बालियान

 

कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध राजनीतिक हो गया है: केंद्रीय मंत्री बालियान
बालियान ने कहा कि हमारा भाग्य जनता के हाथों में है। लोग अंततः समझ जाएंगे कि जब वे विरोध में अन्य दलों के झंडे देखेंगे तो क्या हो रहा है। यूपी विधानसभा चुनाव अगले साल की शुरुआत में होने हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध राजनीतिक हो रहा है। उन्होंने कहा, 'पूरा मामला राजनीतिक हो रहा है। उत्तर प्रदेश और पंजाब में किसान भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे, लेकिन वे हरियाणा में विरोध नहीं करेंगे क्योंकि वहां कोई चुनाव नहीं होना है। कल हुई रैली के लिए हो या भविष्य में अन्य, समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) जैसी पार्टियां इसके लिए संसाधन उपलब्ध करा रही हैं।'

बालियान ने कहा कि किसानों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विपक्षी दल उनका इस्तेमाल अपने राजनीतिक एजेंडे के लिए न करें। किसानों और सरकार के बीच बातचीत पर बालियान ने कहा, हम चाहते हैं कि किसानों और सरकार के बीच बातचीत हो और किसानों के वास्तविक मुद्दों पर चर्चा हो। किसान खाली हाथ घर न लौटें। कानूनों को निरस्त करने के बारे में अड़े रहने के बजाय, उन्हें अपनी इच्छानुसार कानूनों में संशोधन करने का प्रयास करना चाहिए।'

बालियान ने कहा कि भाजपा की किस्मत जनता के हाथ में है। वे बोले, 'हमारा भाग्य जनता के हाथों में है। लोग अंततः समझ जाएंगे कि जब वे विरोध में अन्य दलों के झंडे देखेंगे तो क्या हो रहा है।' बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव अगले साल की शुरुआत में होने हैं।

केंद्र द्वारा तीन कृषि कानूनों के खिलाफ रविवार को मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया। इसमें घोषणा की कि वे आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ प्रचार करेंगे। महापंचायत में विभिन्न राजनीतिक दलों की भागीदारी देखी गई।

किसान तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले साल 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इनमें किसान उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020; मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020 पर किसान अधिकारिता और संरक्षण) समझौता हैं। किसान नेताओं और केंद्र ने कई दौर की बातचीत की है लेकिन गतिरोध बना हुआ है।