प्रमोद भगत ने बैडमिंटन में रचा इतिहास, भारत को मिला चौथा गोल्ड मेडल

 

शटलर प्रमोद भगत ने भारत को एक और गोल्ड दिलाया।
टोक्यो पैरालिंपिक में भारतीय खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन जारी है। शटलर प्रमोद भगत ने भारत को एक और गोल्ड दिला दिया है। उन्होंने पुरुषों की एकल बैडमिंटन स्पर्धा के फाइनल में ब्रिटेन के डेनियन बेथल को हराया ।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। जापान की राजधानी टोक्यो में चल रहे पैरालिंपिक में भारतीय खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन जारी है। शनिवार को भारत की झोली में एक और गोल्ड मेडल आया। प्रमोद भगत ने पुरुषों की एकल बैडमिंटन SL3 स्पर्धा के फाइनल में ब्रिटेन के डेनियन बेथल को 2-0 से हराया। जारी खेलों मे यह भारत का चौथा गोल्ड है। इसके भारत के नाम अबतक 16 पदक हो गए हैं। 

भारत को शनिवार को बैटमिंटन टीम ने शानदार कामयाबी दिलाई। प्रमोद भगत, सुहास एल यथिराज और कृष्णा नागर ने अपने अपने सेमीफाइनल मुकाबले जीतकर फाइनल में जगह पक्की की। भगत ने टोक्यो पैरालिंपिक में बैडमिंटन में भारत को पहला पदक दिलाया। इससे पहले भगत ने शनिवार को टोक्यो पैरालिंपिक के पुरुष एकल SL3 सेमीफाइनल में जापान के डाइसुके फुजीहारा को 21-11, 21-16 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया था।फाइनल में भगत ने बेथेल को सीधे सेटों में 21-14 और 21-17 से 45 मिनट में हरा दिया। टोक्यो पैरालिंपिक में बैडमिंटन में यह भारत का पहला पदक है। पहले सेट के शुरुआती मिनटों में दोनों खिलाड़ियों में काफी टक्कर देखने को मिली। 3-5 से पीछे चल रहे प्रमोद ने मैच में वापसी की। इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने मिड गेम इंटरवल में 11-8 की बढ़त बना ली। भगत ने इस गेम में अपनी लय जारी रखी और पहला गेम 21-14 से जीत लिया।

बेथेल ने दूसरे गेम में भगत को कड़ी टक्कर दी। मिड गेम इंटरवल में ब्रिटेन के खिलाड़ी के पास 11-4 की बढ़त थी, लेकिन जल्द ही भगत ने मैच में वापसी की और 15-15 से स्कोर बराबर कर दिया। इसके बाद प्रमोद ने दबदबा बनाए रखा और दूसरा गेम को 21-11 से जीता और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।