बंगाल में चुनाव बाद हिंसा में जख्मी एक और भाजपा नेता की मौत

 

भारतीय जनता पार्टी के लोगो की फाइल फोटो।

 बंगाल में चुनाव बाद हिंसा में जख्मी दक्षिण 24 परगना जिले के मगराहाट पश्चिम के भाजपा प्रत्याशी और पार्टी के मथुरापुर के उपाध्यक्ष मानस साहा की बुधवार को मौत हो गई। सीबीआइ ने चुनाव बाद हिंसा मामले में एक और एफआइआर दर्ज की है।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में चुनाव बाद हिंसा के मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) के अधिकारियों ने स्टेटस रिपोर्ट की तैयारी को लेकर कोलकाता में निजाम पैलेस स्थित कार्यालय में समीक्षा बैठक की। दूसरी ओर, चुनाव बाद हिंसा में जख्मी एक और भाजपा नेता की बुधवार को मौत हो गई। वहीं, हिंसा के मामले में सीबीआइ ने एक और प्राथमिकी दर्ज की है। नौ दिन बाद सीबीआइ को चुनाव बाद हिंसा मामले की स्टेटस रिपोर्ट कलकत्ता उच्च न्यायालय में जमा करनी है। रिपोर्ट बनाने का काम शुरू हो गया है। समीक्षा बैठक में दिल्ली से सीबीआइ के संयुक्त निदेशक भी शामिल हुए। बैठक में समय पर पुख्ता स्टेटस रिपोर्ट तैयार करने पर जोर दिया गया।

रिपोर्ट में बताया जाएगा कि कितनी एफआइआर दर्ज की गई है, कितने आरोपपत्र दायर किए गए हैं और कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एफआइआर की कुल संख्या 39 है। कुल 84 जांच अधिकारी या आइओ चुनाव के बाद हुई हिंसा की जांच कर रहे हैं। दूसरी ओर, विधानसभा चुनाव बाद हिंसा में जख्मी दक्षिण 24 परगना जिले के मगराहाट पश्चिम के भाजपा प्रत्याशी और पार्टी के मथुरापुर के उपाध्यक्ष मानस साहा की बुधवार को मौत हो गई। दो मई को मानस साहा सहित भाजपा कार्यकर्ताओं व समर्थकों पर कथित रूप से तृणमूल कांग्रेस समर्थित बदमाशों ने डायमंड हार्बर कालेज के मतगणना केंद्र से वापस लौटते समय हमला किया था। जिसमें उन्हें चोट भी लगी थी।

बाद में उनकी तबीयत बिगड़ गई थी और बुधवार को उन्होंने ठाकुरपुकुर के नर्सिंग होम में दम तोड़ दिया। अस्पताल पहुंचे भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि अगर परिवार के सदस्यों ने पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई तो वह चुनाव के बाद की हिंसा के इस मामले की भी सीबीआइ जांच की मांग की जाएगी। दूसरी ओर, चुनाव बाद हिंसा में नदिया में भाजपा के एक समर्थक हुई हत्या के मामले में सीबीआइ ने एक और प्राथमिकी दर्ज की है। मृतक की पत्नी पूर्णिमा दे ने आरोप लगाया कि उनके पति नारायण दे को तृणमूल समर्थित बदमाशों ने बुरी तरह पीटा था जिससे वह गंभीर रूप से बीमार पड़ गए थे। छह मई को उनकी मौत हो गई।