शिष्यों के बीच हुई मारपीट का विवाद गरमाया, महंत जितेंद्र दास ने दी तहरीर

 

मंदिर के दोनों महंत एक बार फिर आमने-सामने आ गए
महंत जितेन्द्र दास ने महंत कृष्ण दास के शिष्यों समेत कुछ बाहरी लोगों पर उनके शिष्यों को बेरहमी से पीटने का आरोप लगाया है। पनकी इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी के मुताबिक आगे विवाद ना हो इसे ध्यान में रखते हुए दोनों महंतों को हिदायत दी है।

कानपुर। कानपुर में पनकी के पंचमुखी हनुमान मंदिर में बुढ़वा मंगल के मौके पर मंदिर परिसर में महंत जितेंद्र दास और महंत कृष्ण दास के शिष्यों के बीच हुई मारपीट के मामले में मंदिर पहुंचे पनकी इंस्पेक्टर को महंत जितेंद्र दास ने घटना के संबंध में तहरीर दी। महंत ने कुछ बाहरी लोगों की ओर से उनके शिष्यों के साथ मारपीट करने का आरोप लगाया है। फिलहाल पुलिस दोनों पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील कर रही है।

मंगलवार को मंदिर परिसर में मंगला आरती के बाद दर्शन हेतू भक्तों के लिए मंदिर कपाट खोल दिए गए। इसी बीच अध्यात्म की शिक्षा ग्रहण कर रहे महंत जितेंद्र दास के शिष्यों व कृष्ण दास के शिष्यों के बीच दर्शन कराने की व्यवस्था को लेकर कहासुनी हो गई। देखते ही देखते कहासुनी धक्का-मुक्की के बाद मारपीट में बदल गई। मामले की जानकारी होते ही मंदिर के दोनों महंत एक बार फिर आमने-सामने आ गए। जिसके बाद महंत जितेंद्र दास व महंत कृष्ण दास के बीच जमकर कहासुनी होने लगी।

तभी वहां पहुंची पनकी पुलिस ने महंत जितेंद्र दास के दो शिष्यों से माहौल खराब करने की बात कहकर उन्हेंं परिसर से बाहर कर दिया। इस बीच वहां खड़े भक्तों ने भी पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। जिसे देख दोनों महंतों के बीच हाथापाई होने की नौबत बन गई। पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह दोनों पक्षों को अलग कर उन पर काबू पाया। इस दौरान पुलिसिया कार्रवाई से असंतुष्ट महंत जितेन्द्र दास की पुलिस से जमकर झड़प हुई। दोपहर बाद मंदिर पहुंचे पनकी इंस्पेक्टर से मुलाकात कर महंत जितेन्द्र दास ने महंत कृष्ण दास के शिष्यों समेत कुछ बाहरी लोगों पर उनके शिष्यों को बेरहमी से पीटने का आरोप लगाया है। पनकी इंस्पेक्टर दधिबल तिवारी के मुताबिक आगे विवाद ना हो इसे ध्यान में रखते हुए दोनों महंतों को हिदायत दी है। मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरो की फुटेज के माध्यम से मामले की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

इनका ये है कहना

  • वेद पाठशाला के कुछ शिष्यों के साथ कुछ अराजक लोग मंदिर की छवि को धूमिल करना है आस्था के पर्व के दिन विवाद होना गलत बात है। - महंत कृष्ण दास
  • वेद पाठशाला के बच्चे भक्तों को दर्शन कराने में लगे हुए थे इसी बीच मंदिर में तैनात सेवादारों ने उनके साथ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए मारपीट की। वेद पाठशाला के शिष्यों के साथ हुई मारपीट निंदनीय है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। - महंत जितेंद्र दास