पुलिस ने मुठभेड़ में एक लाख के इनामी बदमाश दीपक वर्मा को मार गिराया

 

बदमाश दीपक वर्मा संग चौबेपुर के बरियासनपुर चिरईगांव ब्लाक के पीछे पुल के पास मुठभेड़ हो गई।
एक लाख के इनामी बदमाश दीपक वर्मा संग चौबेपुर के बरियासनपुर चिरईगांव ब्लाक के पीछे पुल के पास मुठभेड़ हो गई। आनन फानन जानकारी होने के बाद मौके पर पुलिस अधिकारी भी पहुंचे और वरदात के बारे में जायजा भी लिया।

वाराणसी। चौबेपुर में सोमवार की दोपहर दिन दहाड़े एक लाख के इनामी बदमाश दीपक वर्मा संग चौबेपुर के बरियासनपुर चिरईगांव ब्लाक के पीछे पुल के पास मुठभेड़ हो गई। आनन फानन जानकारी होने के बाद मौके पर पुलिस अधिकारी भी पहुंचे और वरदात के बारे में जायजा लेने के साथ पुलिस टीम से बदमाश के बारे में जानकारी भी हासिल की। पुलिस के अनुसार घटना स्थल बरियासनपुर रिंगरोड के किनारे सर्विस रोड  पर था जहां पर बदमाश को ललकारा गया तो मुठभेड़ हो गई। इस दौरान बाइक पर वह फ‍िसलकर गिरा और पुलिस की गोलियों के निशाने पर आ गया। 

बदमाश दीपक वर्मा रईस सिद्दीकी गिरोह से संबंधित था और वह हथियार चलाने में काफी माहिर भी था। उस पर वाराणसी में कई थानों पर कुल 23 मुकदमे दर्ज थे। वर्ष 2015 से वह फरार चल रहा था और पुलिस को काफी समय से उसकी तलाश थी। लूट के कई मामले उसपर दर्ज थे। आपराधिक इतिहास को देखते हुए एडीजी जोन की ओर से उसपर एक लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था। 

दीपक वर्मा उर्फ गुड्डू लक्‍सा, चेतगंज, सिगरा, भेलूपुर, लोहता, मंडुआडीह, रोहनिया, सारनाथ और कैंट का वांटेड था। इसके अलावा प्रयागराज के नैनी में भी उसपर मुकदमा दर्ज था। पुलिस के अनुसार वाराणसी जिले का वह शातिर अपराधी था और लंबे समय से फरारी के बाद पुलिस की नजरों में धूप झोंककर फरार चल रहा था। उसकी लोकेशन वाराणसी और आसपास ही बनी हुई थी। मुखबिर से सूचना मिलने के बाद पुलिस टीम उसकी सुरागरसी में लगी तो पता चला कि बाइक से वह कहीं जाने के लिए चौबेपुर क्षेत्र से जा रहा है। इस बात की जानकारी मिलते ही पुलिस की टीम उसकी शिनाख्‍त के बाद पीछे लग गई। हाइवे के किनारे पुलिस के ललकारने पर वह भी मोर्चा संभालने लगा था। आनन फानन पुलिस टीम ने उसे ढेर कर दिया।