बंगाल में निष्पक्ष चुनाव की मांग को लेकर आज केंद्रीय चुनाव आयोग से मिलेगा भाजपा का प्रतिनिधिमंडल

 

बंगाल में निष्पक्ष उपचुनाव की मांग को लेकर आज शाम 4:30 बजे केंद्रीय चुनाव आयोग से मिलेगा भाजपा का प्रतिनिधिमंडल
भवानीपुर समेत तीन सीटों पर 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव को लेकर प्रदेश भाजपा का एक पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आज दिल्ली में केंद्रीय चुनाव आयोग से मुलाकात करेगा। प्रतिनिधिमंडल तीनों सीटों पर निष्पक्ष चुनाव एवं पर्याप्त मात्रा में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग करेगा।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में भवानीपुर समेत तीन सीटों पर 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव को लेकर प्रदेश भाजपा का एक पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आज शाम 4:30 बजे दिल्ली में केंद्रीय चुनाव आयोग से मुलाकात करेगा। प्रतिनिधिमंडल तीनों सीटों पर निष्पक्ष चुनाव एवं पर्याप्त मात्रा में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग करेगा। बता दें कि इनमें कोलकाता की हाई प्रोफाइल भवानीपुर विधानसभा सीट से खुद राज्य की मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी चुनाव लड़ रही हैं। उनके खिलाफ भाजपा ने वकील

प्रियंका टिबड़ेवाल को मैदान में उतारा है। बता दें कि इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी नंदीग्राम से करीबी मुकाबले में भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से चुनाव हार गई थी। ऐसे में उपचुनाव उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री बने रहने के लिए ममता को चुनाव जीतना होगा।

वहीं, भाजपा भी उन्हें पटखनी देने के लिए पूरी रणनीति से जुटी है। इधर, बुधवार को भवानीपुर से भाजपा उम्मीदवार प्रियंका टिबड़ेवाल को घेरकर नारेबाजी की गई है। जानकारी के अनुसार, बुधवार सुबह के समय वह क्षेत्र में प्रचार करने के लिए निकली हुई थी। आरोप है कि इसी दौरान तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया और ‘जय बांग्ला’ के नारे लगाने लगे। वह भवानीपुर के जद्दू बाबू बाजार में प्रचार करने के लिए गई थीं। आरोप है कि स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र के पास तृणमूल कार्यकर्ताओं ने उन्हें देखकर नारेबाजी की। दूसरी ओर, बंगाल भाजपा के नेता अपने उम्मीदवारों और पार्टी नेताओं की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। माना जा रहा है कि चुनाव आयोग से मुलाकात के दौरान भाजपा प्रतिनिधिमंडल सुरक्षा की मांग करेगा।

बता दें कि इससे पहले भाजपा ने एक दिन पहले मंगलवार को चुनाव आयोग से भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र से तृणमूल प्रत्याशी व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ शिकायत की थी कि उन्होंने नामांकन पत्र के साथ संलग्न अपने हलफनामे में अपने खिलाफ दर्ज पांच आपराधिक मामलों को छुपाया है। इससे ताजा विवाद खड़ा हो गया है। भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निग आफिसर को लिखे पत्र में भाजपा उम्मीदवार प्रियंका टिबड़ेवाल के मुख्य चुनाव एजेंट सजल घोष ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने हलफनामे में उनके खिलाफ लंबित पांच आपराधिक मामलों का खुलासा नहीं किया है।

मामलों की जानकारी देते हुए घोष ने कहा कि मुख्यमंत्री पर भारतीय दंड संहिता की धारा 120बी (आपराधिक साजिश), धारा 153ए (शत्रुता को बढ़ावा देना) और धारा 338 (दूसरों की जान या निजी सुरक्षा को खतरे में डालकर गंभीर चोट पहुंचाना) के तहत मामला दर्ज किया गया था। ये सभी मामले असम के विभिन्न थानों में दर्ज किए गए थे। घोष ने कई अखबारों की खबरों का हवाला देते हुए कहा कि ममता बनर्जी ने अपने हलफनामे में इन मामलों का जिक्र नहीं किया है और इसलिए उनका नामांकन पत्र स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए।