डब्ल्यूएचओ प्रमुख से मिले स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया, वैश्विक स्वास्थ्य के मुद्दों पर चर्चा

 

मांडविया जी-20 समूह के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक के लिए इटली के रोम में हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस और आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठनके वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकाता की। रविवार को उन्होंने ब्रिटेन ब्राजील और इटली के अपने समकक्षों से भी मुलाकात की थी।

नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने सोमवार को जी-20 के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक के दूसरे दिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डा. टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस और आर्थिक सहयोग एवं विकास संगठन (ओईसीडी) के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अनौपचारिक बैठक की। इसमें उन्होंने वैश्विक स्वास्थ्य की अहमियत के मुद्दों पर चर्चा की।

मांडविया ने ट्वीट किया, 'जी20 स्वास्थ्य मंत्रियों के बैठक के दूसरे दिन डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डां टेड्रोस अधनोम ग्रेब्रेयेसस, ओईसीडी के वैश्विक स्वास्थ्य सलाहकार निक टामलिंसन और ओईसीडी के रोजगार, श्रम और सामाजिक मामलों के निदेशक स्टेफानो स्कारपेटा के साथ एक अनौपचारिक बैठक की।''

इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री ने रविवार को ब्रिटेन, ब्राजील और इटली के स्वास्थ्य मंत्रियों से मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंनेो अपने समकक्षों के साथ स्वास्थ्य तथा चिकित्सा क्षेत्र में परस्पर सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। मांडविया इस समय जी-20 के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए मंगलवार तक चार दिवसीय यात्रा पर इटली की राजधानी रोम में हैं।

मांडविया ने रविवार अपने इतालवी समकक्ष राबर्टो स्पेरांजा के साथ विभिन्न विषयों पर बातचीत की। इस दौरान इटली के साथ शैक्षणिक संस्थानों में दाखिला लेने वाले टीकाकरण करा चुके भारतीय छात्रों को यात्रा में प्राथमिकता देने तथा स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई। उन्होंने इटली की दवा कंपनियों को भारत में निवेश करने और अपने कारोबार का विस्तार करने के लिए आमंत्रित किया है।

इसके साथ ही उन्होंने ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद को भारत आने के लिए आमंत्रित किया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई। इसके अलावा ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्री मार्सेलो क्वीरोगा से भी मनडाविया ने मुलाकात कि और दोनों देशओं के बीच स्वास्थ्य क्षेत्र में बेहतर सहयोग पर बातचीत हुई। हमने वन हेल्थ और नैनो-यूरिया की शुरुआत के बारे में चर्चा की। साथ ही, टीबी से निपटने में ब्राजील को भारत के पूर्ण सहयोग की पेशकश की।