पाकिस्तान ने अफगान नागरिकों के लिए खोली तोरखम सीमा, पैदल जाने वालों को ही अनुमति

 

30,000 से अधिक अफगान नागरिक तोरखम सीमा के माध्यम से अपने देश लौट चुके हैं।
सोमवार को अफगान नागरिकों के बीच यह अफवाह फैलने के बाद कि पाकिस्तान ने उनके लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं पाकिस्तान में प्रवेश करने के लिए सैकड़ों लोग उस दिन तोरखम सीमा पार करने के लिए इकट्ठा हुए थे।

इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान ने मंगलवार को अफगान नागरिकों के लिए अपनी कोरफम सीमा को फिर खोल दिया है। इस दौरान सिर्फ पैदल चलने वालों को ही आवाजाही की अनुमति दी गई है। इससे पहले इस्लामाबाद की तरफ से अफगान नागरिकों की पाकिस्तान में प्रवेश करने की मांग को खारिज कर दिए जाने के बाद सोमवार को तालिबान ने तोरखाम सीमा को बंद कर दिया गया था।

सोमवार को अफगान नागरिकों के बीच यह अफवाह फैलने के बाद कि पाकिस्तान ने उनके लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं, पाकिस्तान में प्रवेश करने के लिए सैकड़ों लोग उस दिन तोरखम सीमा पार करने के लिए इकट्ठा हुए थे। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, खैबर जिले के उपायुक्त मंसूर अरशद के अनुसार, दोनों देशों के नागरिकों के लिए अपने-अपने देशों में लौटने के लिए सीमा को फिर से खोल दिया गया है।

पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच व्यापारिक गतिविधियां सुचारू रूप से चल रही हैं। द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, 15 अगस्त को तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से 30,000 से अधिक अफगान नागरिक तोरखम सीमा के माध्यम से अपने देश लौट आए हैं, जबकि 3,000 से अधिक पाकिस्तानी नागरिक पाकिस्तान लौटे हैं।

हाल ही में पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद ने कहा था कि अफगानिस्तान से भागने की कोशिश कर रहे अफगान शरणार्थियों को आश्रय देने के लिए उनका देश कोई नया शिविर बनाने नहीं जा रहा है। तोरखम सीमा का दौरा करने के बाद रशीद ने कहा कि देश में पहले से ही लगभग तीस लाख अफगान शरणार्थी हैं और ऐसी खबरें आ रही थीं कि सीमा पर लोग एकत्र होकर पाकिस्तान में घुसने का प्रयास कर रहे हैं।