बच्चों को पढ़ाने के लिए अपने पैसे से कराए डाटा रिचार्ज, मोबाइल पर कराई पढ़ाई

 


गरीब बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देती हैं अलका पालीवाल।

गरीब बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देती हैं अलका पालीवाल। लाकडाउन और कोरोना कर्फ्यू में मोबाइल पर कराई पढ़ाई। जगदीशपुरा के सरकारी स्कूल की शिक्षक अलका पालीवाल ने पिछले साल जनवरी में गरीब बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देने के लिए शाम को कक्षाएं संचालित करना शुरू किया।

आगरा, संवाददाता। शहर में एक एेसी कक्षा भी संचालित हो रही है, जहां की शिक्षक अपने खर्चे से बच्चों को पेन, पेंसिल से लेकर किताबें तक उपलब्ध करा रही है। यही नहीं, कोरोना काल में बच्चे शिक्षा से दूर न हो जाएं, इसके लिए अपने खर्चे से उनके पिता के फोन को रिचार्ज करा पढ़ाती रहीं।इस अनोखी कक्षा में शिक्षा की अलख एक सरकारी स्कूल की शिक्षक ने जगाई है। जगदीशपुरा के सरकारी स्कूल की शिक्षक अलका पालीवाल ने पिछले साल जनवरी में गरीब बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देने के लिए शाम को कक्षाएं संचालित करना शुरू किया। हालांकि यह इतना आसान नहीं था, बहुत मुश्किलें आई। बच्चों के बैठने के लिए उचित स्थान नहीं था। बच्चों के पास पढ़ने और लिखने के लिए किताबें भी नहीं थीं। अलका ने हर मुश्किल का सामना किया, बच्चों के किताबें और कापियां खरीदी। ब्लैक बोर्ड भी खरीदा, जिससे बच्चों को आसानी से पढ़ा सके। पहले तो गली में ही बच्चों को बैठा कर पढ़ाती थी, फिर मोहल्ले वालों ने सहयोग किया। पिछले साल लाकडाउन से पहले अलका ने आवास विकास कालोनी के सेक्टर तीन के पास झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चों को भी पढ़ाना शुरू किया।लाकडाउन और कोरोना कर्फ्यू में कक्षाएं बंद हो गई। अलका ने इसका भी रास्ता निकाला और जिन घरों में मोबाइल थे,उन्हें वाट्सएप या मैसेज के माध्यम से होमवर्क भेजना शुरू किया। जिन परिवारों ने डाटा रिचार्ज के लिए पैसे न होने की बात कही, उनके लिए डाटा रिचार्ज खुद कराया। अब उनकी कक्षा परिस्थिति के अनुसार आनलाइन और आफलाइन मोड में चलती है। 

GNI Survey
Local Jagran News

आगरा में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

LIVEभारत बनाम इंग्लैंडचौथा टेस्ट

भारत

191/10&271/3
(over : 93.0)

इंग्लैंड

290/10
(over : 84.0)

खेल जारी है

ज्यादा पठित

आगरा
The Weather Network
33°c
थोड़े बादल
नमी 67%
तापमान ↑ 34°c ↓ 26°c
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैशअभी खेलें

  • बनें लूडो चैंपियन और
    जीतें ढेर सारे

    नकद पुरस्कार

    अभी खेलें
       
  • अपने फ्रेंड्स के साथ खेलें
    स्नैक्स और लैडर्स

    और जीतें 100 रुपए तक कैश

    अभी खेलें
  • मुफ्त में खेलें
    गोल्डन गोल
    और हर गोल पर जीतें

    नकद पुरस्कार

    अभी खेलें
  • आसान सवालों के
    दें जवाब और तुरंत

    100 रुपए तक नकदी

    अभी खेलें
Loading...
NEXT STORY
 

दिसंबर तक तैयार हो सकते हैं आम्रपाली के 2500 फ्लैट, सुप्रीम कोर्ट ने खरीदारों को रकम का भुगतान करने को कहा

undefined
आम्रपाली के दो-ढाई हजार फ्लैट खरीदारों को 31 दिसंबर तक फ्लैट मिलने की उम्मीद है।
Publish Date:Sat, 04 Sep 2021 01:05 AM (IST)Author: Krishna Bihari Singh

वर्षों पहले बुक किए गए फ्लैट के मिलने की बाट जोह रहे आम्रपाली के दो-ढाई हजार फ्लैट खरीदारों को 31 दिसंबर तक फ्लैट मिलने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट ने खरीदारों से कहा है कि वे तय भुगतान योजना के अनुसार 15 अक्टूबर तक रकम का भुगतान कर दें।

नई दिल्ली, जेएनएन। वर्षों पहले बुक किए गए फ्लैट के मिलने की बाट जोह रहे आम्रपाली के दो-ढाई हजार फ्लैट खरीदारों को 31 दिसंबर तक फ्लैट मिलने की उम्मीद है। आम्रपाली की परियोजनाओं को पूरा कर रही एनबीसीसी को अगर 200 करोड़ रुपये मिल जाएंगे तो वह 31 दिसंबर तक 2000 से लेकर 2500 फ्लैट पूरे करके दे देगी। सुप्रीम कोर्ट ने इन फ्लैटों के खरीदारों से कहा है कि वे तय भुगतान योजना के अनुसार 15 अक्टूबर तक रकम का भुगतान कर दें।

46,000 खरीदारों ने बुक कराए थे फ्लैट

मामले की सुनवाई जस्टिस यूयू ललित और अजय रस्तोगी की पीठ कर रही है। करीब 46,000 खरीदारों ने आम्रपाली की विभिन्न परियोजनाओं में फ्लैट बुक कराए थे इनमें से 11,000 लोगों को फ्लैट मिल चुका है लेकिन बाकी लोग अभी भी इंतजार कर रहे हैं। जबकि बिल्डर द्वारा फ्लैट देने की तय समय सीमा कब की बीत चुकी है।

एनबीसीसी को जिम्‍मेदारी

होम बायर्स से पैसा लेकर फ्लैट न देने पर आम्रपाली के मालिक अनिल शर्मा, और निदेशक शिव प्रिया और अजय कुमार 10 अक्टूबर 2018 से जेल में हैं। अब सुप्रीम कोर्ट इस बात पर सुनवाई कर रहा है कि कैसे आम्रपाली के फ्लैट पूरे करके लोगों को दिलाए जाएं। सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली की अधूरी परियोजनाओं को पूरा करने का काम एनबीसीसी को सौंपा है। एनबीसीसी फ्लैट बना रही है।

31 दिसंबर तक पूूरा करने की बात

शुक्रवार को सुनवाई के दौरान होम बायर्स की ओर से पेश वकील एमएल लाहौती और अंचित श्रीपद ने कोर्ट को बताया कि एनबीसीसी के डायरेक्टर के साथ उनकी (एमएल लाहौती) बैठक हुई थी जिसमें एनबीसीसी ने कहा था कि अगर 200 करोड़ रुपये मिल जाएं तो वह 2000 से लेकर 2500 फ्लैट 31 दिसंबर 2021 तक पूरे करके दे देंगें। इस पर पीठ ने उन संबंधित दो-ढाई हजार खरीदीरों से कहा है कि वे 15 अक्टूबर तक पूरी रकम का भुगतान कर दें। ऐसा नहीं होने पर उनके फ्लैट रद भी हो सकते हैं।

95 फीसद रकम का करना होगा भुगतान

हालांकि एनबीसीसी ने जिन परियोजनाओं के फ्लैट पूरे करने की बात कही है उनकी सूची कोर्ट को अभी नहीं दी है। एनबीसीसी के वकील ने कोर्ट को बताया कि एनबीसीसी अगली तारीख 13 सितंबर को कोर्ट मे फ्लैट ओनर्स की सूची और बाकी का ब्योरा देगी। मालूम हो कि तय नियम के मुताबिक फ्लैट खरीदार को 95 फीसद रकम का भुगतान करना होगा और बाकी की पांच फीसद रकम फ्लैट पर कब्जा मिलने पर देनी होगी।

खरीदार परेशान आ रहे बैंकों के नोटिस 

इसके अलावा लाहौती ने कोर्ट से कहा कि बहुत से खरीदारों ने सबवेंशन प्लान में फ्लैट खरीदे थे जिसमें फ्लैट मिलने तक ब्याज का भुगतान बिल्डर को करना होता है। लेकिन बिल्डर ने अपने हिस्से के पैसे का भुगतान नहीं किया जिसके कारण होम खरीदार परेशान हैं। उन्हें बैंक के नोटिस आ रहे हैं। कोर्ट ने संबंधित बैंकों से इस पर जवाब मांगा है।

छह बैंकों ने संघ बनाया

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त रिसीवर वरिष्ठ वकील वेंकट रमणी ने कोर्ट को बताया कि छह बैंकों ने एक संघ बनाया है जो कि आम्रपाली की परियोजनाओं को पूरा करने के लिए कर्ज देगा। रमणी ने कहा कि कर्ज की राशि अगले महीने तक मिलने की उम्मीद है।