दिल्ली-एनसीआर के लोगों के लिए राहत की खबर, बारिश, सर्दी और गर्मी की मिलेगी सटीक जानकारी

 

दिल्ली-एनसीआर के लोगों के लिए राहत की खबर, बारिश, सर्दी और गर्मी की मिलेगी सटीक जानकारी
 दिल्ली में राडार स्थापित हो गया है और अब इसकी टेस्टिंग चल रही है। अब तीन तीन राडारों की मदद से दिल्ली एनसीआर के सभी क्षेत्रों के लिए अधिक माइक्रो लेवल तक पूर्वानुमान जारी किया जा सकेगा।

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर के लिए आने वाले दिनों में मौसम पूर्वानुमान और भी सटीक एवं प्रामाणिक होंगे। इसके लिए एक और राडार आरंभ होने वाला है। देश की राजधानी दिल्ली में ही लगे इस नए राडार की फिलहाल टेस्टिंग चल रही है, जल्द ही यह अपनी पूर्ण क्षमता से काम करना शुरू कर देगा। ऐसा होने पर बारिश, सर्दी, गर्मी, शीतलहर और लू सभी का पूर्वानुमान अधिक प्रामाणिक ढंग से तैयार हो सकेगा।

गौरतलब है कि फिलहाल दिल्ली और एनसीआर के दर्जनभर शहरों का मौसम पूर्वानुमान जारी करने के लिए लोधी रोड और पालम में मौसम विभाग के दो राडार लगे हुए हैं। ये दोनों ही राडार काफी पहले से हैं और 300-300 किमी तक की रेंज तक मौसमी गतिविधियों को रिकार्ड करते हैं। अब एक नया राडार आया नगर में लगाया गया है।

इसमें ताजा अपडेट यह है कि राडार स्थापित हो गया है और अब इसकी टेस्टिंग चल रही है। मौसम विभाग के मुताबिक नया राडार एक्स बैंड-वेब लिंक फ्रीक्वेंसी सुविधा वाला है। इस राडार की रेंज हालांकि एक सौ किमी तक ही है, लेकिन मौसमी गतिविधियों की रिकार्डिंग क्षमता अत्याधुनिक है। ऐसे में तीन तीन राडारों की मदद से दिल्ली एनसीआर के सभी क्षेत्रों के लिए अधिक माइक्रो लेवल तक पूर्वानुमान जारी किया जा सकेगा।

दैनिक जागरण से बातचीत में भारत मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के महानिदेशक डा. एम महापात्रा ने बताया कि मौसम पूर्वानुमान पहले की तुलना में अब 80 फीसद तक सटीक होने लगे हैं। हालांकि थोड़े बहुत बदलाव की गुंजाइश हमेशा बनी रहती है। फिर भी दिल्ली एनसीआर के लिए पूर्वानुमान को अधिक बेहतर बनाने के लिए दिल्ली में नया राडार जल्द ही शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि इस राडार पर छह से सात करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान है। 

यह भी जानें

  • अभी दिल्ली में दो राडार कर रहे काम
  • दोनों 300- 300 किमी तक कर रेंज करते हैं कवर
  • या राडार कवर करेगा 100 किमी का रेंज, लेकिन होगा अत्याधुनिक विशेषताओं से युक्त