गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित हरियाणा में माडल संस्कृति स्कूलों में मुफ्त पढ़ेंगे अति गरीब परिवारों के बच्चे

 

गरीब बच्चों को हरियाणा संस्कृति स्कूलों में मुफ्त मिलेगी शिक्षा। सांकेतिक फोटो

हरियाणा के माडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में अति गरीब परिवार के बच्चे मुफ्त पढ़ सकेंगे। परिवार पहचान पत्रों में दर्ज सूचनाओं के आधार पर ऐसे बच्चों की पहचान की जाएगी। एसडीएम माडल स्कूलों का दौरा कर रिपोर्ट देंगे।

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा में विद्यार्थियों को क्वालिटी एजुकेशन (गुणवत्तापरक शिक्षा) प्रदान करने के उद्देश्य से बनाए गए माडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी स्कूलों में अब परिवार पहचान पत्र के अंतर्गत सत्यापित अति गरीब परिवारों के बच्चों को मुफ्त शिक्षा मिलेगी। इन स्कूलों में अंग्रेजी के साथ-साथ हिंदी मीडियम में भी शिक्षा मिलेगी।

यह निर्णय मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई माडल संस्कृति स्कूलों की प्रगति समीक्षा बैठक में लिया गया। बैठक में शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने इन स्कूलों की निरंतर प्रगति के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को फील्ड में जाकर स्कूलों का दौरा करने और हर माह समीक्षा के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिलों के वरिष्ठ अधिकारी एसडीएम, डीडीपीओ और तहसीलदार एक-एक माडल संस्कृति स्कूल को गोद लें। इससे कार्य की समीक्षा करने में आसानी होगी और स्कूलों की प्रगति से वाकिफ हुआ जा सकेगा।

मनोहर लाल ने कहा कि माडल संस्कृति स्कूलों की प्रगति को देखते हुए स्कूलों की संख्या बढ़ाने की मांग आने लगी है, इसलिए अधिकारी स्कूलों की संख्या बढ़ाने की दिशा में संभावनाएं तलाश करें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में कहा गया है कि राष्ट्रीय और स्थानीय भाषाओं में शिक्षा को अधिक महत्व दिया जाए, इसलिए इन माडल संस्कृति स्कूलों में अंग्रेजी माध्यम के साथ-साथ हिंदी माध्यम में भी शिक्षा ग्रहण करने का विकल्प विद्यार्थियों को दिया जाए।