नारकोटिक्स स्क्वाड टीम ने अंतरराज्यीय शराब तस्कर को किया गिरफ्तार

 

आरोपित की पहचान उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के रहने वाले संजय वर्मा के रूप में की गई है।

तस्करी में इस्तेमाल होंडा अमेज कार को भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। गिरफ्तार शराब तस्कर पहले से शराब तस्करी के आधा दर्जन मामलों में शामिल रहा है। आरोपित की पहचान उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के रहने वाले संजय वर्मा के रूप में की गई है।

नई दिल्ली, संवाददाता। दक्षिणी जिले की नारकोटिक्स स्क्वाड टीम ने अंतरराज्यीय शराब तस्कर को गिरफ्तार किया है। उसके पास से 40 पेटी में 2000 पव्वे शराब की बोतलें बरामद हुई है। तस्करी में इस्तेमाल होंडा अमेज कार को भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। गिरफ्तार शराब तस्कर पहले से शराब तस्करी के आधा दर्जन मामलों में शामिल रहा है। आरोपित की पहचान उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के रहने वाले संजय वर्मा के रूप में की गई है।

दक्षिणी जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि 10 सितंबर को हेड कांस्टेबल राजकुमार को सूचना मिली थी कि एक शख्स शराब तस्कर होंडा अमेज कार में भारी मात्र में हरियाणा से शराब लेकर दिल्ली आने वाला है। सूचना के बाद इंस्पेक्टर सत्यवीर सिंह के नेतृत्व में टीम बनाई गई और ट्रैप लगाकर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। तलाशी के दौरान 40 पेटी में 2000 पव्वे शराब की बोतलें बरामद हुईं, जो सिर्फ हरियाणा में बेची जा सकती थीं। जांच में पता चला कि उस पर दिल्ली के अलग-अलग थानों में पहले से शराब तस्करी के छह मामले दर्ज हैं।

एंबिएंस समूह के मालिक की जमानत अर्जी खारिज

वहीं, मनी लांड्रिंग मामले में गिरफ्तार किए गए गुरुग्राम स्थित एंबिएंस समूह के मालिक राज सिंह गहलोत को जमानत देने से इन्कार करते हुए पटियाला हाउस कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज कर दी है। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेद्र राणा ने कहा कि जिस तरह का आरोप लगाया गया है और मामले की जांच की वर्तमान स्थिति को देखते हुए आरोपित द्वारा जांच को प्रभावित किए जाने की संभावना है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 29 जुलाई को राज सिंह गहलोत को कथित बैंक धोखाधड़ी से जुड़े मनी लांडिंग मामले में गिरफ्तार किया था। गहलोत फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। जम्मू के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने वर्ष 2019 में गहलोत की कंपनी अमन हास्पिटेलिटी प्राइवेट लिमिटेड (एएचपीएल) और इसके निदेशकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। इस मामले की जांच के आधार पर ईडी ने केस दर्ज किया था।