दिल्ली में कब खोले जाएंगे छठी से आठवीं तक के स्कूल? जल्द खत्म होगा सस्पेंस

 

Delhi Schools Reopen: दिल्ली में कब खोले जाएंगे छठी से आठवीं तक के स्कूल? जल्द खत्म होगा सस्पेंस
दिल्ली सरकार नौवीं से बारहवीं तक के स्कूलों को खोलने के बाद अब छठीं से आठवीं कक्षा तक के स्कूलों को भी खोलने पर राजी है। इसकी पूरी तैयारी भी की जा चुकी है। सिर्फ डीडीएमए की ओके का इंतजार है।

नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क। देश की राजधानी दिल्ली में नौवीं से बारहवीं तक स्कूल पहले ही खोले जा रहे हैं। इस बीच अगले सप्ताह 15 सितंबर से छठीं से आठवीं तक के स्कूल भी खोले जाएंगे। इसका एलान दिल्ली सरकार कभी भी कर सकती है। बताया जा रहा है कि दिल्ली सरकार छठीं से आठवीं तक के स्कूलों को खोलने के लिए गाइडलाइन और एसओपी भी तैयार है। इस पर अंतिम निर्णय दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ बैठक के बाद होना है। एसओपी पर DDMA की मुहर लगने के बाद दिल्ली सरकार छठी से आठवीं तक स्कूलों को खोलने का एलान कर देगी। स्कूल खोलने और एसओपी के बारे में एक-दो दिन में जानकारी े दे दी जाएगी। माना जा रहा है कि 15 सितंबर से छठी से आठवीं तक स्कूल खोले जाएंगे।

आल इंडिया पैरंट्स एसोसिएशन लगातार स्कूलों को फिर से खोलने की मांग कर रही है, इनमें छठी से आठवीं तक के स्कूल भी शामिल हैं। बता दें कि नौवीं से बारहवीं तक स्कूल खोले जा रहे हैं। 50 फीसद क्षमता के साथ खोले गए स्कूलों में छात्र-छात्राएं कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए स्कूल जा रहे हैं। एआइपीए के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल  के मुताबिक, स्कूलों को खोलना जरूरी है और यह बच्चों के शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के स्वास्थ्य के जरूरी है। 

पिछले दिनों छठी से आठवीं तक के स्कूलों को खोले जाने को लेकर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बड़ी जानकारी दी थी। बतौर शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने समाचार एजेंसी एएनआइ से से बातचीत में कहा था-' दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में इस पर चर्चा होगी। इसके बाद फैसला लिया जाएगा कि दिल्ली में छठीं से आठवीं कक्षा तक के स्कूल कब खोले जाएंगे। अब जानकारी मिल रही है कि इस छठीं से आठवीं कक्षा तक स्कूलों को खोलने का निर्णय अगले एक-दो दिन में ले लिया जाएगा।

छठी से आठवीं तक स्कूल खोलने के लिए दिल्ली सरकार तैयार

बताया जा रहा है कि दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार नौवीं से बारहवीं तक के स्कूलों को खोलने के बाद अब छठीं से आठवीं कक्षा तक के स्कूलों को भी खोलने पर राजी है। इसकी पूरी तैयारी भी की जा चुकी है।

स्कूल आने के लिए छात्रों को नहीं किया जाएगा मजबूर

बताया जा रहा है कि छठीं से आठवीं कक्षा  तक की एसओपी नौवीं से बारहवीं तक स्कूलों को खोले जाने जैसी होगी। इसमें भी छात्र-छात्राओं को जबरन स्कूल नहीं बुलाया जा सकेगा। स्कूल आने के लिए माता-पिता का लिखित सहमति छात्रों को देनी होगी। अभिभावकों की अनुमति के बिना स्कूल प्रबंधन छात्रों को स्कूल नहीं बुला सकेगा।

नौवीं से बारहवी तक की एसओपी

  • सभी छात्र-छात्राओं और स्कूल स्टाफ की अनिवार्य रूप से थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है।
  • लंच चरणबद्ध तरीके से होगा। सभी छात्र-छात्राएं एकसाथ लंच नहीं कर सकेंगे।
  • कक्षा में सभी छात्र-छात्राओं के बीच शारीरिक दूरी का नियम अनिवार्य है। 
  • कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्र, शिक्षक या कर्मचारी को स्कूल आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा।