कानपुर के इस गांव में डेंगू का मरीज मिलने पर फैली दहशत, स्वास्थ्य टीम ने शुरू किया छिड़काव

 

स्वास्थ्य कर्मियों से बात करते एसीएमओ डॉ आर्यन सिंह
टीम ने गांव से 16 डेंगू और 26 मलेरिया की स्लाइड बनवाई तैयार कराई है। पेडेमिक टीम ने गांव में फागिंग कराने के साथ एंटी लार्वा का छिड़काव कराया। वहीं ग्रामीण सीता महेश गोविंद रामकली राधेलाल दो दर्जन लोग बुखार से पीडि़त पाए गए।

कानपुर। बिधनू के मन्नीपुरवा गांव में डेंगू ने दस्तक दे दी है। गांव की पूर्व ग्राम प्रधान 65 वर्षीय राजरानी की खून जांच रिपोर्ट में डेंगू की पुष्टी हुई है। वह शुक्रवार को ही ह्रदयरोग संस्थान से डिस्चार्ज होकर घर लौटी थी। जिसके बाद रविवार रात उन्हेंं तेज बुखार आ गया। जिसपर स्वजन उन्हेंं सोमवार को सीएचसी लेकर पहुंचे। जहां उनके खून का सैंपल लेकर मलेरिया और डेंगू की जांच के लिए भेजा गया। मंगलवार को उनकी रिपोर्ट डेंगू पॉजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई। मंगलवार दोपहर एपेडेमिक टीम के साथ एसीएमसो डां आर्यन सिंह गांव पहुंचकर बुखार पीडि़त लोगों का हाल जाना।

टीम ने गांव से 16 डेंगू और 26 मलेरिया की स्लाइड बनवाई तैयार कराई है। पेडेमिक टीम ने गांव में फागिंग कराने के साथ एंटी लार्वा का छिड़काव कराया। वहीं ग्रामीण सीता, महेश, गोविंद, रामकली, राधेलाल दो दर्जन लोग बुखार से पीडि़त पाए गए। बिधनू चिकित्साधीक्षक डां एसपी यादव ने बताया कि डेंगू का मरीज मिलने की सूचना पर तुरंत टीम गांव भेजी है। अभी तक का क्षेत्र का पहला डेंगू मरीज मिला है। पीडि़त महिला दो दिन पहले ह्रदय रोग संस्थान से लौटी थी। जिसके बाद उन्हेंं बुखार आया है। फिरहाल गांव से खून के सैंपल के साथ दवा के छिड़काव करा दिया गया है। बिधनू चिकित्साधीक्षक डां एसपी यादव ने बताया कि डेंगू का मरीज मिलने की सूचना पर तुरंत टीम गांव भेजी है। अभी तक का क्षेत्र का पहला डेंगू मरीज मिला है। पीडि़त महिला दो दिन पहले ह्रदय रोग संस्थान से लौटी थी। जिसके बाद उन्हेंं बुखार आया है। फिरहाल गांव से खून के सैंपल के साथ दवा के छिड़काव करा दिया गया है।