किस तरह की है समस्याएं, Class 10वीं और 12वीं के छात्रों और शिक्षकों की मदद के लिए क्या है नया अपडेट

 

CBSE ने Term 1 बोर्ड परीक्षा के लिए कक्षा 10वीं और 12वीं के सैंपल पेपर्स जारी कर दिए हैं
CBSE नए प्रकार के MCQs के अभ्यास के लिए केवल 1 ही सैंपल पेपर प्रदान करता है। इसलिए छात्रों को अधिक अभ्यास के लिए एक सर्कुलर में एक अध्ययन सामग्री पुस्तक सुझाई गयी है। इसमें सभी नए पैटर्न MCQs को शामिल किया गया है।

बहुत इंतजार के बाद, 2 सितंब ने Circular Acad-75/202 के माध्यम से 2021-22 Term 1 बोर्ड परीक्षा के लिए कक्षा 10वीं और 12वीं के सैंपल पेपर्स जारी कर दिए हैं।

छात्र और शिक्षक यहां इस लिंक से सभी मुख्य विषयों के सैंपल पेपर्स और मेकिंग स्कीम को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। इस सैंपल पेपर्स ने छात्रों और शिक्षकों के लिए नवंबर-दिसंबर Term 1 MCQ-आधारित बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी के लिए काफी स्पष्टता प्रदान की है।

लेकिन, CBSE द्वारा जारी इस सैंपल पेपर्स में एक बड़ा मुद्दा है, जिससे बहुत कंफ्यूजन हो सकता है। CBSE ने कक्षा 10वीं और 12वीं के Term 1 सैंपल पेपर्स के कुछ विषयों में 40 से अधिक MCQ का पेपर दिया है,अटैम्ट करने और विकल्पों को भी शामिल करने के बाद। सामान्य तौर पर पिछले साल तक ऑब्जेक्टिव सेक्शन में 1 मार्क के MCQ ही आ रहे थे। नीचे कुछ Term 1 विषय के सैंपल पेपर का MCQ ब्रेकडाउन है, जहां हमें ऐसे मुद्दे मिले:

jagran

कुछ सब्जेक्ट्स के टोटल MCQs का ब्रेकडाउन देखिये

चूंकि CBSE ने 22 जुलाई 2021 के Circular Acad-53/2021 में स्पष्ट रूप से बताया था कि Term 1 और Term 2 दोनों 40 अंकों के होंगे; ये जारी किए गए कुछ सब्जेक्ट्स के सैंपल पेपर्स छात्रों और शिक्षकों के लिए कंफ्यूजन करने वाले हो सकते हैं, क्योंकि वे 1 मार्क वाले MCQs के हिसाब से ज्यादा मार्क्स के बैठ रहे हैं।कई विषयों में यह निर्देश दिया गया है कि सभी प्रश्नों के अंक समान हैं, इसलिए यह संभावना नहीं की जा सकती कि विभिन्न वर्गों में MCQ के अलग-अलग अंक होंगे।

शिक्षकों और छात्रों के लिए इसका क्या मतलब है?

अब इसके निष्कर्ष निकालने की तीन संभावनाएं हैं, जैसा कि CBSE विशेषज्ञों द्वारा सुझाया गए हैं:

1. कुल 40 अंक का पेपर बनाए रखने के लिए, CBSE Term 1 बोर्ड परीक्षा में इन कुछ सब्जेक्ट्स के लिए 0.7 - 0.8 अंक प्रति MCQ एलोकेट कर सकता है, जिससे टोटल मार्क्स 40 बैठ जाए। और बाकी विषयों में सामान्य 1m प्रति MCQ जारी रख सकता है।

2. CBSE इस विषय को सुधारने के लिए एक जल्द ही नया अपडेट प्रदान कर सकता है।

3. CBSE 1m MCQ वेटेज बनाए रख सकता है और इन विषयों के लिए Term 1 और Term 2 मार्क्स ब्रेकडाउन को बदल सकता है, यानी Term 1 में अधिक मार्क्स आएं Term 2 से। और इसके लिए भी उन्हें जल्द ही एक स्पष्टीकरण देना पड़ सकता है।

किसी भी तरह से, FAQs के माध्यम से CBSE जल्द ही एक अपडेट प्रदान कर सकता है, लेकिन एक बात तय हैं कि सभी सब्जेक्ट्स में अब पेपर का पैटर्न यही रहेगा। हमें पेपर पैटर्न में और किसी भी तरह के बदलाव की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। अब एक और बड़ा अपडेट दिया गया है। CBSE ने विभिन्न विषयों में 1 अंक Case-study MCQ की अवधारणा द्वारा कुछ दिलचस्प नए प्रश्नों के प्रकार दिए हैं, जैसे आप नीचे देख सकते हैं:

jagran

Standalone Case/ Source/ Competency-आधारित MCQs (1m)

इसके साथ ही कई विषयों में Assertion/ Reason, Labelling और Diagram-आधारित MCQs भी दिए हैं, जो आमतौर पर अब तक नहीं पूछे जाते थे। इसलिए, सैंपल पेपर आधारित MCQs की तैयारी में छात्रों की मदद करने के लिए, एक सर्कुलर में एक अध्ययन सामग्री पुस्तक सुझाई गयी है।jagran

CBSE Term 1 Sample Paper-आधारित नए पैटर्न के MCQs के लिए पुस्तकें सुझाता Circular

CBSE ऐसे नए प्रकार के MCQs के अभ्यास के लिए केवल 1 ही सैंपल पेपर प्रदान करता है। इसलिए छात्रों को अधिक अभ्यास के लिए इस तरह की अध्ययन सामग्री पुस्तकका उपयोग करना काफ़ी सही रहेगा। पुस्तकों के प्रत्येक अध्याय में विशेष रूप से Biology, SST, Physics, Science और Maths में जहां कंपैरिजन MCQ, Labelling MCQ, Case-based MCQ और Diagram-based MCQ प्रदान किए गए हैं।हमने इन पुस्तकों को देखा और इनमें वास्तव में ऊपर फोटो में दिए सभी नए पैटर्न MCQs को शामिल किया है, जो विशेष रूप से CBSE Sample Paper में पेश किए गए हैं। प्रत्येक सब्जेक्ट की बुक में 80-100 MCQ भी हैं।

यह उपरोक्त सर्कुलर में अनुशंसित Educart Study Material Book (2 सितंबर 2021 के Term 1 के CBSE Sample Paper पर आधारित) के लिंक्स आसानी से उपयोग के लिए नीचे दिए गए हैं।

कुछ CBSE विशेषज्ञों के साथ बातचीत से पता चला है कि CBSE इस जारी किए गए सैंपल पेपर को अपना Term 1 बोर्ड पेपर तैयार करने के आधार के रूप में ले रहा है। इसलिए, CBSE द्वारा समय पर पूरी तैयारी करने के लिए NCERT पर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी जाती है। और उससे भी महत्वपूर्ण, नवंबर-दिसंबर 2021 Term 1 परीक्षा के लिए है, नई टाइपोलॉजी के प्रश्नों का अभ्यास किया जाए, जोकि सिर्फ उपरोक्त Educart पुस्तकों में मिलेंगे।