नरेंद्र मोदी विरोधी नेताओं संग नहीं दिखेंगे बिहार CM नीतीश, ललन बोले- दिल्ली तक जा सकते हैं पर हरियाणा नहीं

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार सीएम नीतीश कुमार। जागरण आर्काइव।

हरियाणा के जींद जिले में पूर्व उप प्रधानमंत्री देवी लाल की जयंती पर 25 सितंबर को आयोजित कार्यक्रम में बिहार सीएम नीतीश कुमार नहीं शामिल होंगे। ललन ने कहा कि कोरोनावायरस की तीसरी लहर की आशंका और बाढ़ की स्थिति को देखते हुए नीतीश राज्य से बाहर नहीं जाएंगे।

 पटना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोधी नेताओं के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंच नहीं साझा करेंगे। जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह ने शनिवार को सभी अटकलों पर विराम लगा दिया। ललन ने कहा कि हरियाणा के जींद जिले में पूर्व उप प्रधानमंत्री देवी लाल की जयंती पर 25 सितंबर को आयोजित कार्यक्रम में बिहार सीएम नीतीश कुमार शामिल नहीं होंगे। ललन सिह ने कहा कि कोरोनावायरस की तीसरी लहर की आशंका के साथ बिहार में बाढ़ की स्थिति को देखते हुए नीतीश किसी आवश्यक कार्य आने पर दिल्ली तक तो जा सकते हैं पर आगे नहीं। ललन ने कहा कि सीएम के आयोजन में ना शामिल होने की सूचना देवी लाल के बेटे ओमप्रकाश चौटाला को दे दी गई है। पार्टी की ओर से केसी त्यागी जींद में मौजूद रहेंगे। 

ललन ने कहा कि नीतीश कुमार का देवी लाल से आत्मीय संबंध रहा है। देवी लाल का स्नेह हमेशा नीतीश को मिलता रहा है। पहले कई सम्मेलन में नीतीश कुमार जाते रहे हैं। इसबार कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए तैयारी करनी है। साथ ही बच्चों में एक नई बीमारी देखने को मिल रही है। बिहार में बाढ़ की स्थिति पर भी नजर रखनी है। ऐसे में नीतीश आवश्यक कार्य के लिए दिल्ली तक तो जा सकते हैं मगर आगे नहीं। ललन ने साफ कर दिया कि नीतीश हरियाणा के जींद जिले में पूर्व उप प्रधानमंत्री देवी लाल की जयंती कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे। ललन ने कहा कि जदयू की ओर से केसी त्यागी पार्टी का नेतृत्व करेंगे। बता दें कि ललन के बयान से थर्ड फ्रंट के गठन की कवायद को झटका लग सकता है। वहीं पूरी तरह से आसार इस लिए भी खत्म नहीं हुए हैं क्योंकि जदयू की तरफ से केसी त्यागी के कार्यक्रम में रहने की बात कही गई है।