UNGA में बोले पीएम मोदी, भारत ने दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन विकसित की, विश्वभर के मैन्युफैक्चर्स को किया आमंत्रित

 

संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधन करते हुए पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले डेढ़ सालों से पूरा विश्व 100 साल में आई सबसे बड़ी महामारी का सामना कर रहा है। ऐसी भयंकर महामारी में जीवन गंवाने वाले सभी लोगों को मैं श्रद्धांजलि देता हूं और परिवारों के साथ अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं।

वाशिंगटन, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 76वें सत्र को संबोधित किया। कोरोना महामारी पर बोलते हुए पीएम मोदी ने सबसे पहले कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ सालों से पूरा विश्व 100 साल में आई सबसे बड़ी महामारी का सामना कर रहा है। ऐसी भयंकर महामारी में जीवन गंवाने वाले सभी लोगों को मैं श्रद्धांजलि देता हूं और परिवारों के साथ अपनी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं संयुक्त राष्ट्र महासभा को ये जानकारी देना चाहता हूं कि भारत ने दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन विकसित कर ली है जिसे 12 साल से ज्यादा आयु के सभी लोगों को लगाया जा सकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारत के वैज्ञानिक एक नेजल वैक्सीन के निर्माण में भी लगे हैं। मानवता के प्रति अपने दायित्व को समझते हुए भारत ने एक बार फिर दुनिया के जरूरतमंदों को वैक्सीन देनी शुरू कर दी है।

संयुक्त राष्ट्र के अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज दुनिया भर के वैक्सीन मैन्युफैक्चर्स को भी आमंत्रित करता हूं कि आइए और भारत में वैक्सीन बनाइए।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना महामारी ने विश्व को ये भी सबक दिया है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को अब और अधिक विविधता किया जाए। इसके लिए वैश्विक मूल्य श्रृंखला का विस्तार आवश्यक है। हमारा आत्मनिर्भर भारत अभियान इसी भावना से प्रेरित है।