आइपीएल क्रिकेट मैच में सटटा लगा रहे थे, दिल्ली पुलिस ने बुकी समेत 10 को किया गिरफ्तार

 


मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स के बीच शारजाह में खेले जा रहे क्रिकेट मैच में सटटा लगा रहे थे
अटैची में फिट पाए गए मोबाइलों की लाइन दुबई से जुड़ी थी। अपराध शाखा को सूचना मिली थी कि प्रीत विहार में कुछ सटटेबाज इंडियन प्रीमियम लीग क्रिकेट मैच पर सटटा लगा रहे हैं। एसीपी राजेश कुमार व इंस्पेक्टर राजीव कक्कड़ के नेतृत्व में टीम ने सभी को दबोच लिया।

नई दिल्ली ]। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने आइपीएल क्रिकेट मैच में सटटा लगाने के आरोप में आठ बुकी समेत 10 आरोपितों को गिरफ्तार कर अंतरराज्यीय क्रिकेट सट्टेबाजी रैकेट का भंडाफोड़ किया है। आरोपित मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स के बीच शारजाह में खेले जा रहे क्रिकेट मैच में सटटा लगा रहे थे। ये सभी यमुनापार के बड़े सटोरिए हैं। इस गिरोह का कंट्रोल दुबई से हो रहा था। पिछले छह सालों से आरोपित क्रिकेट मैच का सटटा लगा रहे थे।

डीसीपी अपराध शाखा मोनिका भारद्वाज के मुताबिक गिरफ्तार गए बुकियों के नाम अंकित गाेयल (कृष्णा नगर), टिवंकल गुप्ता (ज्ञील खुरंजा) , अनमोल गांधी (कृष्णा नगर), सुरेंद्र मित्तल (कृष्णा नगर), दीपक अहूजा ( झील खुरंजा), चेतन बत्रा (गीता), दिव्यांस गुप्ता (झील खुरंजा) व मनोज कुमार (सुंदर विहार) हैं। इनके साथ दो अन्य को भी गिरफ्तार किया गया है, जिसका नाम बताने से पुलिस ने इंकार किया है। इनके पास से 38 मोबाइल फोन, 10 लैपटाप, दो अटैची जिसमें 21 मोबाइल फोन लगे हैं। 3 एलइडी टीवी, 5 डायरी, दो डोंगल, 2 इंटरनेट रूटर्स, 2 रिकार्डर, सेटअप बाक्स कैलकुलेटर बरामद किए गए हैं।अटैची में फिट पाए गए मोबाइलों की लाइन दुबई से जुड़ी थी। अपराध शाखा को सूचना मिली थी कि प्रीत विहार में कुछ सटटेबाज इंडियन प्रीमियम लीग क्रिकेट मैच पर सटटा लगा रहे हैं। मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स के बीच इंडियन प्रीमियम लीग क्रिकेट मैच शारजाह क्रिकेट स्टेडियम, शारजाह, दुबई में खेला जा रहा है। एसीपी राजेश कुमार व इंस्पेक्टर राजीव कक्कड़ के नेतृत्व में अपराध शाखा की टीम ने सभी को शनिवार को दबोच लिया।

गिरफ्तारी के दौरान आरोपित 50 लाख का दांव लगाए हुए थे। अंकित गोयल इस गिरोह का सरगना है। उसे लोग जुआरी कहकर बुलाते हैं। गिरोह रिकॉर्ड करने के लिए अपने लैपटाप पर विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए सट्टेबाजी साफ़्टवेयर का उपयोग करता है और मैच के दौरान लगाए गए दांवों की गणना करता है।

अंकित गोयल और ट्विंकल ने 2 स्पेशल फोन कनेक्शन जिसे तोता लाइन कहा जाता है उसे एक आपरेटर से खरीदा था। ये लाइनें लाउडस्पीकर पर हर गेंद के बाद सट्टे की मौजूदा दरों को दोहराती रहती हैं। वे मौखिक रूप से इन दरों को उन सभी 'पंटर्स' को रिले करते हैं जो उनके साथ दांव लगाते हैं। बेट टॉस, रन, सत्र, विकेट, अंतिम जीत के विजेता पर दाव लगाई जाती है। ये सभी अपना ठिकाना बदलते रहते थे।