यूपी विधानसभा चुनाव पर भाजपा ने तैयार किया एजेंडा, पार्टी 100 दिनों में करेगी 100 कार्यक्रम

 

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी 100 दिनों में करेगी 100 कार्यक्रम
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में इन कार्यक्रमों को शुरू करने के निर्णय को अंतिम रूप दिया गया। इस बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता इस मुद्दे पर राष्ट्रीय नेतृत्व को जानकारी देने के लिए राष्ट्रीय राजधानी आए हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके तहत पार्टी ने 100 दिनों का एजेंडा तैयार किया है। पार्टी महत्वपूर्ण चुनावों से पहले लगभग 100 दिनों में सौ कार्यक्रम शुरू करने के लिए तैयार है। राष्ट्रीय राजधानी में आज होने वाली रणनीतिक बैठक में मतदान से 100 दिन पहले मतदाताओं से जुड़ने के पार्टी के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम के विवरण को अंतिम रूप दिया जाना है।

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, संगठन महासचिव सुनील बंसल, यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, यूपी राज्य इकाई के प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह के राष्ट्रीय महासचिव संगठन बीएल संतोष से मिलने की संभावना है ताकि चुनाव से पहले आगामी महीनों के लिए संगठनात्मक गतिविधियों को अंतिम रूप दिया जा सके।

भाजपा सरकार द्वारा शुरू किए गए कल्याणकारी उपायों के साथ मतदाताओं तक पहुंचने के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की जा रही है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, 'हर मोर्चे को विधानसभावार अपने कार्यक्रमों और बैठकों को पूरा करने के लिए कुछ दिनों का समय दिया जाएगा। प्रत्येक मोर्चों को हर विधानसभा क्षेत्र को छूना होगा।'

सूत्रों ने कहा कि कुछ समय के कार्यक्रमों की सूची में मंडलवार पन्ना प्रमुख सम्मेलन, छह क्षेत्रों में सदस्यता अभियान, कमल दीवाली, हर बूथ पर 100 सदस्यों को शामिल किया जाना और पिछले विधानसभा चुनावों में 81 सीटों पर रैलियां शामिल हैं जहां भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था।

राष्ट्रीय राजधानी में उत्तर प्रदेश चुनाव से ठीक पहले इस महत्वपूर्ण बैठक में भारतीय जनता पार्टी संगठन, उसके कैडर और नेताओं को हर मतदाता तक पहुंचाने के लिए रणनीतियों और कार्यक्रमों को अंतिम रूप देने के लिए तैयार है। इसके साथ ही विपक्ष द्वारा हिंदू वोटों के विभिन्न वर्गों को विभाजित करने के प्रयासों पर चर्चा और समाज के चयनित वर्गों के लिए कार्यक्रमों को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है।

रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में इन कार्यक्रमों को शुरू करने के निर्णय को अंतिम रूप दिया गया। इस बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता इस मुद्दे पर राष्ट्रीय नेतृत्व को जानकारी देने के लिए राष्ट्रीय राजधानी आए हैं। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव अगले साल की शुरुआत में होने हैं। वर्तमान में 110 विधानसभा क्षेत्र हैं जहां मुस्लिम मतदाता लगभग 30-39 प्रतिशत हैं। 44 सीटों पर यह प्रतिशत बढ़कर 40-49 प्रतिशत हो गया है, जबकि 11 सीटों पर मुस्लिम मतदाता लगभग 50-65 प्रतिशत हैं।