एनएचएआइ ने जमीन एक्वायर करने को जारी किया 100 कराेड़ का फंड, दिसबंर आखिर तक शुरू हाेगा काम

 

लुधियाना-बठिंडा एक्सप्रेस-वे का काम दिसंबर 2021 के आखिर में शुरू करने की तैयारी। (सांकेतिक तस्वीर)
 एक्सप्रेस-वे का काम पूरा होने के बाद लोगों को ट्रैफिक से काफी हद तक राहत मिल जाएगी। फिलहाल एनएचएआइ की ओर से फंड जारी किया गया है जिसके बाद जमीन एक्वायर की जाएगी। यह प्राेजेक्ट भारत सरकार के भारतमाला प्राेजेक्ट के तहत बन रहा है।

 संवाददाता, बठिंडा। लुधियाना-बठिंडा एक्सप्रेस-वे का काम दिसंबर 2021 के आखिर में शुरू करने की तैयारी है। करीब 1500 करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट के लिए जमीन एक्वायर करने काे लेकर एनएचएआइ ने 100 करोड़ रुपये का फंड जारी किया है। इसके तहत लुधियाना से बठिंडा से एक्वायर होने वाली जमीन के मालिकों को यह राशि दी जाएगी।

एक्सप्रेस-वे का काम पूरा होने के बाद लोगों को ट्रैफिक से काफी हद तक राहत मिल जाएगी। फिलहाल एनएचएआइ की ओर से फंड जारी किया गया है, जिसके बाद जमीन एक्वायर की जाएगी। लेकिन सड़क बनाने का काम भी तब तक शुरू नहीं हो पाएगा, जब तक इसका एनएचएआइ को कब्जा नहीं मिल जाता। वहीं इस रोड पर हर 500 मीटर पर कन्वर्ट दिए जाएंगे, जहां से पानी केबल तारें व अन्य प्रकार की क्रासिंग हो सकेगी।

एक्पसप्रेस-वे पर क्रासिंग नहीं हाेगी बंद

लांकि एक्सप्रेस-वे पर क्रासिंग बंद नहीं की जाएगी। यहां तक कि एक्सप्रेस-वे पर लगने वाले गांवों के लिए भी क्रासिंग होगी। इसके अलावा हाईवे पर जहां अंडरपास करेंगे, उन्हें इस ढंग से बनाया जाएगा कि वहां से कंबाइनें तक निकल सकेंगी। यह रोड सिक्स लेने बनाई जा रही है। यह आगे बठिंडा से निकलने वाली अमृतसर-जानगर व लुधियाना-अजमेर रोड को आपस में लिंक करेगी। यह प्राेजेक्ट भारत सरकार के भारतमाला प्राेजेक्ट के तहत बन रहा है।

प्रोजेक्ट की जानकारी

  • लुधियाना-बठिंडा एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन अधिग्रहण का काम अब पूरा हो चुका है।
  • बठिंडा में 27 के करीब गांवों की जमीन प्रोजेक्ट के लिए अधिग्रहण की जाएगी।
  • प्रोजेक्ट की शुरूआत का टारगेट दिसंबर 2021 ही तय किया गया।
  • टेंडर लगाने के बाद बिड रिसीव हो चुकी हैं। अब ठेकेदार को अवार्ड जारी किए जाएंगे।
  • 6 लेन के इस एक्सप्रेस-वे की लागत 2000 करोड़ तक आएगी।
  • लुधियाना-बठिंडा एक्सप्रेस-वे की शुरूआत गांव बलोवाल से शुरू हाेगी, जो दिल्ली-अमृतसर-कटड़ा से कनेक्ट होगा।
  •  एनएच-1 दोराहा से शुरू होने वाला सदर्न बाईपास लुधियाना-बठिंडा हाईवे, दिल्ली-अमृतसर-कटड़ा एक्सप्रेस-वे, अमृतसर-जानगर को जोड़ेगा।