फणीश्वर नाथ "रेणु" की धरती अररिया में 110 जगह स्थापित की गईं मां दुर्गा की प्रतिमा, चाक चौबंद व्यवस्था

 

अररिया में दुर्गा पूजा की धूम, मां दुर्गा के दर्शन के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु
फणीश्वर नाथ रेणु की धरती अररिया में धूमधाम के साथ दुर्गा पूजा मनायी जा रही है। जिले में 110 जगहों पर मां दुर्गा विराजमान की गई हैं। सुरक्षा के लिहाज से सभी जगह पुलिस कैंप करते हुए दिखाई दे रही है....

संवाद सूत्र, अररिया। फणीश्वर नाथ "रेणु" की धरती पर दुर्गा पूजा का रंग चढ़ चुका है। दशहरे की धूम अब चरम पर है। जिले के विभिन्न पूजा स्थलों पर देवी दर्शन को लेकर श्रद्धालु व भक्त उमड़ रहे है। पूजा पंडालों में मैया के सुर गूंजरहे है। बुधवार को देवी महागौरी की धूमधाम से पूजा के साथ गुरुवार नवमी को माता सिद्धीदात्री की पूजा अर्चना विधि विधान पूर्वक की गई। इसके साथ ही पूजा पंडालों एवं दुर्गा मंदिरों में पूजा अर्चना, प्रार्थना को लेकर श्रद्धालुओं का तांता लग गया है। मां शेरावाली के दर्शन को लेकर महिलाओं एवं बच्चों में खासा उत्साह है।

सांसद, विधायक भी पूजा स्थलों पर देवी दर्शन कर लोगों को दशहरे की बधाई दे रहे हैं। अररिया जिले के ग्रामीण व शहरी क्षेत्र मिलाकर लगभग 110 स्थानों पर मां दुर्गे की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की जा रही है। इनमें अररिया शहर में लगभग एक दर्जन स्थानों पर देवी प्रतिमा की स्थापना की गई है। वही फारबिसगंज,जोगबनी शहर में भी विभिन्न स्थानों पर दुर्गा पूजा की जा रही है। इसी तरह रानीगंज,भरगामा,कुर्साकांटा, नरपतगंज, सिकटी, जोकीहाट, पलासी सहित फारबिसगंज, अररिया के ग्रामीण क्षेत्रों के विभिन्न गांवों में स्थित दुर्गा मंदिरों में मां अंबे की पूजा पाठ में श्रद्धालु जुटे है।

कई जगहों पर भव्य व आकर्षक पंडाल लोगों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। विभिन्न पूजा स्थलों पर भव्य मेला का भी अयोजन हुआ है। कई स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है। ग्रामीण क्षेत्र के मेले में झूला, मिनी सर्कस, मीना बाजार आदि आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। महिलाएं व बच्चे मेले का लुफ्त उठा रहे है। नवमी को विभिन्न पूजा स्थलों पर पाठा की बलि चढ़ाई गई। सुरक्षा को लेकर जिला प्रशासन सक्रिय है।

प्रायः सभी पूजा स्थलों पर मजिस्ट्रेट एवं पुलिस पदाधिकारी की तैनाती है। शहरी क्षेत्रों में भीड़ भाड़ को देखते हुए जगह जगह बैरिकेडिंग की व्यवस्था की गई है। पुलिस दल बल लगातार कैंप कर रहा है। वहीं नवमी के बाद लोग विजयादशमी की तैयारी में जुट गए हैं।