पिता की शहादत को 11 साल की बेटी का सलाम, कपूरथला के नायब सूबेदार जसविंदर का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार

 

कपूरथला में पिता को अंतिम सलाम देती हुई उनकी 11 साल की बेटी।
आतंकवादियों से लोहा लेते शहीद हुए नायब सूबेदार जसिवंद सिंह का बुधवार को उनके पैतृक गांव माना तलवंडी में पूरे सैन्य सम्मानों के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद की चिता को अग्नि 13 साल के बेटे पुत्र विक्रमजीत सिंह ने दी।

 संवाददाता, माना तलवंडी (कपूरथला)। जम्मू-कशमीर में आतंकवादियों से लोहा लेते शहीद हुए नायब सूबेदार जसिवंद सिंह का बुधवार को उनके पैतृक गांव माना तलवंडी में पूरे सैन्य सम्मानों के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद की चिता को अग्नि 13 साल के बेटे पुत्र विक्रमजीत सिंह ने दी। जसविंदर सिंह को पहले भी बहादुरी के लिए सेना मेडल के साथ सम्मानित कया गया था। गत दिनों जम्मू-कश्मीर में घात लगाकर किए गए एक आतंकवादी हमले में वह शहीद हो गए थे। बुधवार सुबह भारतीय सेना उनका पार्थिव शरीर सैन्य सम्मान के साथ गांव माना तलवंडी में लाई। वहां जसविंदर की 11 साल की बेटी गुरनूर कौर ने जब अपने पिता को सलाम किया तो हर किसी की आंख नम हो गई। 

इस मौके पर सीएम चरणजीत सिंह चन्नी की तरफ से कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने शहीद को श्रद्धांजलि भेंट की। स्पीकर लोकसभा ओम बिरला की ओर से डिप्टी कमिशनर दीप्ति उप्पल, राज्यपाल पंजाब बनवारी लाल पुरोहत की तरफ से एसएसपी कपूरथला हरकमलप्रीत सिंह खख आदि ने शहीद जसविन्दर सिंह को श्रद्धा के फूल भेंट किए। 

परिवार को 50 लाख रुपये और सरकारी नौकरी

इस मौके कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने शहीद के परिवार के साथ दुख सांझा करते कहा कि मुख्यमंत्री की तरफ से किए एलान अनुसार शहीद जसविंदर सिंह के परिवार को पंजाब सरकार 50 लाख रुपये और एक मेंबर को योग्यता अनुसार सरकारी नौकरी देगी। 

इस मौके पर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की प्रधान बीबी जगीर कौर, भुलत्थ के विधायक सुखपाल सिंह खैहरा, जिला योजना बोर्ड के चेयरमैन अनूप कल्लण, एसडीएम डा. जय इंद्र सिंह, एसपी समीर कौशिक के अलावा जसविंदर की यूनिट के सैनिक मौजूद रहे। इस मौके अलग -अलग राजनीतिक पार्टियों के नेता, प्रशासनिक अधिकारी, धार्मिक सखशियतें और बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।