सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में 5 दिन शेष, इन लास्ट मिनट टिप्स का रखें ध्यान

 


10 अक्टूबर को है यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की सिविल सेवा परीक्षा
यूपीएससी सिविल सर्विसेज प्रीलिम्स परीक्षा 10 अक्टूबर को आयोजित की जाएगी। परीक्षा से पहले बचे हुए इन दिनों में उम्मीदवारों को कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए। यहां कुछ टिप्स बताए जा रहे हैं जो उम्मीदवारों के लिए उपयोगी सिद्ध होंगे।

 संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 10 अक्टूबर, 2021 को किया जाना है। परीक्षा में शामिल होने के लिए उम्मीदवारों के प्रवेश पत्र पहले ही जारी किए जा चुके हैं और अब प्रारंभिक परीक्षा की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। सिविल सर्विसेज प्रीलिम्स के लिए अब मात्र 5 दिन और शेष हैं। इस आर्टिकल में, हमने UPSC CSE 2021 के उम्मीदवारों के लिए लास्ट मिनट के कुछ टिप्स की जानकारी दी है। इन टिप्स की मदद से उम्मीदवार यह समझ सकेंगे कि अपनी तैयारी को मजबूत करने और अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए पिछले कुछ दिनों के साथ-साथ परीक्षा के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं।

नए टॉपिक्स न पढ़ें

इस समय कुछ भी नया पढ़ना व्यर्थ है। इस समय आप जो पढ़ते हैं, उसे माइंड में बनाए रखने की बहुत कम संभावना है। जिन टॉपिक्स के बारे में आप अभी तक नहीं पढ़ पाए हैं, उनका अध्ययन करने से आपका अधिक समय खर्च होगा। उम्मीदवारों को उन विषयों के रिवीजन करने पर ध्यान देना चाहिए, जिनके बारे में उन्होंने पहले से ही पढ़ा है। इसलिए, नए टॉपिक्स को कवर करने की बजाय, जो आप पहले पढ़ चुके हैं, उसे रिवाइज्ड करने पर फोकस रखें।

मॉक टेस्ट का अभ्यास

उम्मीदवार परीक्षा से पहले बचे हुए इस समय का उपयोग अधिक से अधिक मॉक-टेस्ट आधारित लर्निंग अप्रोच अपनाने पर करें। इसके लिए सुबह मॉक टेस्ट दें और उन टॉपिक्स के बारे में और पढ़ें जिसमें आप चूक रहे हैं। आप अपनी क्षमता और तैयारी का आकलन करने और प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने के लिए मॉक टेस्ट की हर दिन दिन प्रैक्टिस करें।

सीएसएटी के लिए महत्वपूर्ण विषयों का रिवीजन

CSAT एक क्वालिफाइंग पेपर है, जिसमें 33 फीसदी या 66 से अधिक अंक प्राप्त करना प्रीलिम्स क्वालिफाई करने के लिए एक शर्त है। इसलिए, इस पेपर के महत्व को कम मत समझें। मैथ्स और रीजनिंग के महत्वपूर्ण टॉपिक्स का रिवीजन करें। CSAT पेपर के अभ्यास के लिए प्रतिदिन लगभग एक घंटा समय दें। इसके अलावा, हर दिन कम से कम एक रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन को सॉल्व करें, क्योंकि यह इस पेपर में रीजनिंग और क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड के बाद अधिकतम मार्क्स रखता है।

तनाव से बचें

परीक्षा को लेकर अत्यधिक तनाव लेने से आपकी तैयारी पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। अपने तनाव को नियंत्रण में रखें, क्योंकि तनाव आपकी कार्यकुशलता को प्रभावित करेगा। खूब पानी पिएं और अपने शेड्यूल में लगभग 30 मिनट का व्यायाम और कम से कम एक घंटे का खाली समय शामिल करें। साथ ही, परीक्षा से ठीक एक दिन पहले कुछ भी न पढ़ें। इस दौरान अपने दिमाग को आराम दें।

सटीकता बनाए रखें

यदि आपने पर्याप्त संख्या में मॉक टेस्ट दिए हैं, तो आपको अपनी सटीकता के बारे में पता चल जाएगा। इसलिए, बहुत अधिक अनुमान के आधार पर उत्तर देने से बचें। यह आपकी सटीकता को बर्बाद कर सकता है और इससे नकारात्मक अंकन होगा। इसलिए, उत्तर को तभी चिह्नित करें जब आप सुनिश्चित हों। यदि फिरभी, गिनती बहुत कम है, तो एक मौका लें और अनुमान के आधार पर कुछ प्रश्नों का उत्तर चिह्नित करें।

समय का प्रबंधन

परीक्षा हॉल में कब समय समाप्त हो जाता है, इसका पता ही नहीं चलता। इसलिए, परीक्षा देते वक्त टाइम मैनेजमेंट का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको जल्दबाजी करनी चाहिए। उत्तर अंकित करने से पहले प्रश्न और विकल्पों को ठीक से पढ़ लें। एक प्रश्न पर बहुत अधिक समय बर्बाद न करें।

शांत रहें और आत्मविश्वास रखें

परीक्षा हॉल में प्रवेश से पहले अपनी तैयारी, अपनी मेहनत और अपने दृढ़ संकल्प पर विश्वास करें। किसी भी तरह के नकारात्मक विचारों को अपने मन में हावी न होने दें। पूर्ण भरोसा रखें और पूरे आत्मविश्वास और सकारात्मकता के साथ पेपर को हल करने का प्रयास करें।