सुरनकोट मुठभेड़ जेसीओ समेत 5 जवान शहीद, एक आतंकी के मारे जाने की भी सूचना, मुठभेड़ जारी

 

मुठभेड़ में शामिल सुरक्षाबलों का कहना है कि दो से तीन आतंकियों की मौजूदगी की आशंका है।
जम्मू स्थित रक्षा मंत्रालय के पीआरओ ने जेसीओ समेत पांच जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है। उन्होंने यह भी बताया कि यह मुठभेड़ तब शुरू हुई जब सेना ने सुरनकोट पुंछ में स्थित डेरा की गली के पास के गांवों में तलाशी अभियान शुरू किया।

राजौरी: सुरनकोट में जारी मुठभेड़ में सेना को भारी नुकसान हुआ है। मुठभेड़ के दौरान सेना के जेसीओ समेत पांच जवान शहीद हो गए हैं। वहीं एक आतंकी के मारे जाने की भी सूचना है। यह मठुभेड़ जिला पुंछ में नियंत्रण रेखा से सटे सुरनकोट इलाके के जंगल मेंं अभी भी जारी है। घेराबंदी में तीन से चार आतंकियों के घिरे होने की सूचना है। साथियों की शहादत के बाद जवानों ने अपना अभियान तेज कर दिया है।आतंकी मुठभेड़ से बचकर न निकल भागें इसकेे लिए घेराबंदी को और मजबूत बनाया जा रहा ह

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि स्थानीय लोगों द्वारा सुरनकोट नियंत्रण रेखा से सटे डेरा की गली के जंगलों में संदिग्ध देखे जाने की सूचना के आधार पर एसओजी, सेना ने सुबह से तलाशी अभियान चलाया हुआ था। तलाशी अभियान के दौरान सुरक्षाबलों को जंगल में आतंकियों के मौजूद होने के सबूत मिले। सुरक्षाबलों ने आतंकियों का पीछा शुरू कर दिया। जब सुरक्षाकर्मी आतंकियों के नजदीक पहुंच गए तो पेड़ों की होड़ में छिपे आतंकियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। 

मुठभेड़ में जेसीओ और चार जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। घायल जवानों को सैन्य अस्पताल ले जाया गया परंतु इलाज के दौरान पांचों जवानों ने जख्मों का ताव न सहते हुए दम ताेड़ दिया। वहीं जम्मू स्थित रक्षा मंत्रालय के पीआरओ ने भी जेसीओ समेत पांच जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है। उन्होंने यह भी बताया कि यह मुठभेड़ तब शुरू हुई जब सेना ने सुरनकोट पुंछ में स्थित डेरा की गली के पास के गांवों में तलाशी अभियान शुरू किया।

सेना केे जवान जब जंगल में पहुंचे तो वहां छिपे आतंकियों ने उन पर अचानक से गोलीबारी शुरू कर दी। इसी दौरान जेसीओ समेत पांच जवान घायल हो गए। सूत्रों ने बताया कि जंगल में 4 से 5 आतंकवादी घेरे हुए हैं।