दिल्ली के इन 6 सरकारी अस्पतालों में अब नही होगी आक्सीजन की किल्लत, पीएसएम प्लांट का हुआ उद्धाटन



संभावित तीसरी लहर के लिए सशक्त हो रहे क्षेत्र के सरकारी अस्पताल
दादा देव मातृ एवं शिशु चिकित्सालय व इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्पताल में पीएसए प्लांट का उद्घाटन करने पहुंचे विधायक विनय मिश्रा ने कहा कि दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में आक्सीजन की भारी किल्लत की समस्या सामने आई थी।

नई दिल्ली । दूसरी लहर के दौरान आक्सीजन की भारी किल्लत से जूझने के बाद बुधवार को संभावित तीसरी लहर को मद्देनजर रखते हुए क्षेत्र के छह बड़े सरकारी अस्पतालों में क्षेत्रीय विधायकाें द्वारा पीएसए (प्रेशर स्विंग एडसरप्शन) प्लांट का उद्घाटन किया गया। इसमें हरि नगर स्थित दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल, जाफरपुरकलां स्थित रावतुला राम अस्पताल, डाबड़ी स्थित दादा देव मातृ एवं शिशु चिकित्सालय, मोती नगर स्थित आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल, द्वारका सेक्टर-10 स्थित इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्पताल व जनकपुरी स्थित अतिविशिष्ट अस्पताल शामिल है। हालांकि संभावित तीसरी लहर को मद्देनजर रखते हुए यह तैयारी अभी भी आधी अधूरी ही नजर आती है।

जानकारों के मुताबिक सभी अस्पतालों में अभी तक लिक्विड आक्सीजन टैंक नहीं लगे हैं और कई अस्पतालों में तो केंद्रीय गैस पाइपलाइन बिछाने का कार्य भी अभी तक शुरू नहीं हुआ है। बिना लिक्विड आक्सीजन टैंक के पीएसए प्लांट का इस्तेमाल संभव नहीं है और यही कारण है कि अभी भी अस्पताल आक्सीजन के क्षेत्र में पूर्ण रूप से आत्मनिर्भर नहीं बने हैं। साथ ही आक्सीजन सिलेंडर से भी अस्पतालों की निर्भरता अभी भी खत्म नहीं हुई है।

दादा देव मातृ एवं शिशु चिकित्सालय व इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्पताल में पीएसए प्लांट का उद्घाटन करने पहुंचे विधायक विनय मिश्रा ने कहा कि दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में आक्सीजन की भारी किल्लत की समस्या सामने आई थी। जिसके कारण कई लोगों की मृत्यु हो गई। भविष्य में ऐसा दोबारा न हो इसके लिए मुख्यमंत्री के नेतृत्व में सभी अस्पतालों को सशक्त बनाने की दिशा में यह अहम कदम है। तीसरी लहर के दौरान अस्पतालों को अब आक्सीजन की किल्लत से नहीं जूझना पड़ेगा।

अस्पताल प्रशासन की मानें तो प्राथमिक स्तर पर दादा देव अस्पताल के आपातकाल विभाग में 35 बेड को पाइपलाइन के माध्यम से पीएसए प्लांट से जोड़ा गया है। जहां तक सभी बेड की बात नई इमारत का निर्माण कार्य प्रगति पर है जैसे ही कार्य पूरा होगा अस्पताल में केंद्रीय गैस पाइपलाइन के साथ अपना लिक्विड आक्सीजन टैंक भी होगा। जिसके बाद अस्पताल आक्सीजन के क्षेत्र में पूर्ण रूप से आत्मनिर्भर होगा।

वहीं जनकपुरी स्थित अतिविशिष्ट अस्पताल में विधायक राजेश ऋषि ने पीएसए प्लांट का उद्घाटन किया और उन्होंने सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाया। उन्होंने कहा कि दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य कर्मचारियों का कार्य सराहनीय रहा और यदि संभावित तीसरी लहर आती है तो उसके लिए भी अस्पताल पूर्ण रूप से तैयार है। आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल में शिव चरण गाेयल पहुंचे और दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में राजकुमार ढिल्लो ने पीएसए प्लांट की शुरुआत की।

अस्पताल पीएसए प्लांट की क्षमता

  • दादा देव मातृ एवं शिशु चिकित्सालय 500
  • आचार्य श्री भिक्षु अस्पताल 1000
  • इंदिरा गांधी अतिविशिष्ट अस्पताल 1500
  • जनकपुरी स्थित अतिविशिष्ट अस्पताल 1500
  • दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल 700
  • रावतुला राम अस्पताल 500