बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

 

बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र
बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर गत दिनों मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) पर जमकर बरसीं थीं। उन्होंने उनकी सरकार को बिना बताए बांधों का पानी छोड़ने को सीधे तौर पर अपराध करार दिया था।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को प्रधानमंत्री को पत्र लिखा। उन्होंने पत्र में इसे नियंत्रित करने के लिए केंद्र की ओर से ठोस कदम उठाए जाने का आग्रह किया है। गत दिनों ममता ने पीएम से बाढ़ को नियंत्रित करने के लिए मास्टर प्लान तैयार करने का अनुरोध किया था। बाढ़ से सूबे के पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर, पूर्व व पश्चिम बर्द्धमान, बांकुड़ा, हुगली, बीरभूम व हावड़ा जिले के विभिन्न इलाकों की स्थिति विकट है।

बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की स्थिति को लेकर गत दिनों मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) पर जमकर बरसीं थीं। उन्होंने उनकी सरकार को बिना बताए बांधों का पानी छोड़ने को सीधे तौर पर 'अपराध' करार दिया था। मुख्यमंत्री ने कहा था, 'डीवीसी ने 5.5 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा, जिससे बंगाल के आठ जिले बाढ़ग्रस्त हो गए। डीवीसी ने चार बार पानी छोड़ा। पानी छोड़ने से पहले एक बार भी बंगाल सरकार को सूचित नहीं किया।बाढ़ से एक लाख घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। यह एक अपराध है। हम इसका प्रतिवाद करते हैं और झारखंड सरकार से मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध करते हैं। हम केंद्र से भी बाढो़ं को नियंत्रित करने के लिए मास्टर प्लान तैयार करने का अनुरोध करते हैं।'

ममता ने आगे कहा-'यह मानव जनित बाढ़ है।अगर झारखंड सरकार ने अपने बांधों की ड्रेजिंग कराई होती तो बंगाल को इतनी विकट स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। अगर हालात ऐसे ही बने रहे तो राज्य सरकार डीवीसी से मुआवजे की मांग करेगी।