सेना में जाने का सपना होगा पूरा, जीरकपुर में आर्मी के रिटायर्ड अफसर देंगे युवाओं को ट्रेनिंग


जीरकपुर में में एसएसबी शॉयर शॉट नाम से एकेडमी खोली गई है।
सेना में भर्ती के चाहवान युवाओं को ट्राईसिटी में ही भर्ती प्रशिक्षण मिलेगा। इसके लिए जीरकपुर में एसएसबी श्योर शॉट नाम से एकेडमी खोली गई है। यहां आर्मी के रिटायर्ड ऑफिसरों युवाओं को ट्रेनिंग देंगे और उन्हें सेना भर्ती के लिए तैयार करेंगे।

संवाददाता, जीरकपुर। भारतीय सेना में जाकर देशसेवा के इच्छुक युवाओं के लिए यह काम की खबर है। सेना में भर्ती के चाहवान युवाओं को ट्राईसिटी में ही भर्ती प्रशिक्षण मिलेगा। इसके लिए जीरकपुर में एसएसबी श्योर शॉट एकेडमी खोली गई है। यहां आर्मी के रिटायर्ड ऑफिसरों युवाओं को ट्रेनिंग देंगे।

जीरकपुर के प्राइवेट स्कूल में एसएसबी शॉयर शॉट नाम से एकेडमी खोली गई है। इसका उद्घाटन वीएसएम (वशिष्ट सेवा मंडल) से रिटायर्ड मेजर जनरल वीपीएस भाकुनी ने किया। यह एकेडमी भारतीय सशस्त्र बलों में अधिकारी बनने के लिए एसएसबी चयन प्रकिया को क्रेक करने में युवाओं को ट्रेंड करेगी। आने वाले समय में एकेडमी में युवाओं की मांग पर आर्मी से रिलेटड 16 कोर्स ओर शुरू किए जाएंगे।

चंडीगढ़ के आसपास इस तरह की यह दूसरी एकेडमी हैं जिसमें युवा प्रशिक्षण ले सकेंगे। यह एकडेमी जीरकपुर के छत गांव में स्थित माउंट कार्मल स्कूल में शुरू की गई है। इससे पहले मोहाली में महाराणा रणजीत सिंह नामक एकेडमी चल रही है, जिसमें एंट्रेंस के लिए कई टेस्ट पास करने पड़ते हैं। लेकिन अब ट्राईसिटी के युवाओं के लिए जीरकपुर में यह ट्रेनिंग सेंटर फायदेमंद साबित होगा। क्योंकि यहां पर टेस्ट प्रक्रिया के लिए स्टूडेंट्स को काबिल बनाया जाता है और कम खर्च पर यह कोर्स उपबलब्ध हैं।

एकेडमी के को- पार्टनर राजेश रत्न और आइएस कंग ने बताया कि यह एकेडमी युवाओं को प्रशिक्षण देने पर ध्यान देती है। एकेडमी में एक बैच में 40 बच्चों को शामिल किया जाएगा। यदि बच्चे ज्यादा हो जाते हैं तो इसके बैच  बढ़ा दिए जाएंगे। इसके साथ ही एसएसबी के दौरान होने वाली सभी गतिविधियों जैसे कि माइंड गेम, समूह कार्य, शरीरिक बाधाएं को दूर करने के लिए यहां का ढांचा तैयार किया गया है। इसके अलावा रहने खाने की सुविधा भी बहुत बढ़िया की गई है। भारतीय सशस्त्र बलों के लिए परामर्श और प्रशिक्षण के अलावा उमीदवार के व्यक्तित्व को निखारने के लिए काम किया जाता है।

जर जनरल वीपीएस भाकुनी ने बताया कि यह एकडेमी पंजाब, हरियाणा, हिमाचल और जम्मू कश्मीर के युवाओं के लिए वरदान साबित होगी। क्योंकि अब एसएसबी के इच्छुक छात्र सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे और यह एकेडमी श्योर शॉट एकेडमी बैंगलोर की तर्ज पर खोली गई है। पहले इस क्षेत्र में पंजाबी सबसे आगे होते थे लेकिन अब लोगों का रुझान विदेश में सेटल होने और बिजनेस की ओर बढ़ गया है। यदि नार्थ इंडिया के छात्रों को मौका मिलेगा तो वह इस तरफ जरूर कामयाब होंगे।