प्रधानमंत्री से बात करते समय भावुक हुईं कानपुर की रामजानकी, कहा- हर देश को मिले मोदी जी जैसा पीएम

 

प्रधानमंत्री से वार्ता करती हुईं कानपुर की रामजनानकी।
जूही उस्मानपुर निवासी दूध का काम करने वाले लालजी पाल के परिवार में पत्नी रामजानकी बेटा नीलेश बेटी नैंसी है। नीलेश ने बताया कि रमईपुर से पिता दूध लाकर घर-घर सप्लाई करते हैं। उन्होंने बताया कि पहले मकान की छत में स्लैब नहीं पड़ी थी।

कानपुर। प्रधानमंत्री आवास योजना से इन दिनों देश के अलग-अलग क्षेत्रों में सभी को पक्की छत मिल रही है। सरकार ऐसी जनकल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से गांव और शहर में प्रत्येक परिवार को लाभांवित करने का काम कर रही है। प्रति सप्ताह उज्जवला और पीएम आवास जैसी याेजनाओं का कोई न कोई परिवार लाभ उठा रहा है। इस बार ऐसा ही एक परिवार सामने आया है उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले से। लाभ पाने वाले शहर के ही एक दुग्ध विक्रेता की पत्नी रामजानकी हैं। सरकारी आवास पाने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उस्मानपुर के इस परिवार से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से वार्ता की। इस दौरान डीएम विशाख जी, नगर आयुक्त शिव शरणप्पा जीएन, अपर नगर आयुक्त अरविंद राय, भाजपा दक्षिण जिला अध्यक्ष वीना आर्या पटेल सहित अन्य मौजूद रहे। 

जूही उस्मानपुर निवासी दूध का काम करने वाले लालजी पाल के परिवार में पत्नी रामजानकी बेटा नीलेश, बेटी नैंसी है। नीलेश ने बताया कि रमईपुर से पिता दूध लाकर घर-घर सप्लाई करते हैं। उन्होंने बताया कि पहले मकान की छत में स्लैब नहीं पड़ी थी। बारिश में घर टपकता था। उन्होंने बताया कि मां राम जानकी के साथ पीएम आवास योजना (शहरी) के तहत विकास भवन के डूडा में जाकर जानकारी ली। इसके बाद सारे कागजों की कार्रवाई पूरी होने के बाद डूडा में जमा कर दिया। इसके बाद उन्हें तीन किश्तों में धन मिला। पहली किस्त 50 हजार, दूसरी 1.50 लाख और तीसरी 50 हजार की किस्त मिली। इसके साथ ही 1.50 लाख रुपये अपने पास से लगाकर घर को पक्का बनाया। 

पीएम नरेन्द्र मोदी ने उस्मानपुर की रामजानकी ढाई मिनट तक बातचीत की। पेश हैं बातचीत के अंश: 

  • प्रधानमंत्री: नमस्ते राम जानकी जी। मकान कब बना ?

रामजानकी: नमस्कार प्रधानमंत्री जी। दो वर्ष पहले मकान बना। 

  • प्रधानमंत्री: काम क्या करते हैं ? 

रामजानकी: जी, मेरे पति दूध बेचते हैं। 

  • प्रधानमंत्री: आप स्ट्रीट वेंडर हैं, आपके लिए पीएम स्वनिधि योजना है। 

रामजानकी: जी, 10 हजार रुपये मिले।

  • प्रधानमंत्री: आप डिजिटल लेन देन करती हो। 

रामजानकी: थोड़ा-थोड़ा करते हैं।

  • प्रधानमंत्री (डिजिटिल लेन-देन को बढ़ावा देते हुए) : कानपुर से जिन लोगों को आवास मिला है उनकाे बधाई।

रामजानकी (भावुक होते हुए) : हमारे पीएम जैसा सभी देश का पीएम हो, मुझे बहुत खुशी है कि पीएम ने हमसे बात की।  

  • प्रधानमंत्री: बहुत-बहुत धन्यवाद रामजानकी जी। 

20 वर्ष से खराब सड़क एक रात में बनी: उस्मानपुर इलाके की पिछले 20 वर्ष से सड़क खराब पड़ी थी, कीचड़ की वजह से आवारा जानवर लौटते थे। नगर निगम ने सोमवार देर रात ही इंटरलाकिंग टाइल बिछा कर सड़क बना दी ह

ै।