पीयूष गोयल का कांग्रेस पर निशाना, अपनी ही सरकारों को अस्थिर कर रहा कांग्रेस नेतृत्व

 


कैप्टन का आरोप राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है।
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह की टिप्पणी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा देने के बाद जिस तरह के आरोप लगाए वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है।

दुबई, एएनआइ। पंजाब में राजनीतिक उथल-पुथल को लेकर केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। रविवार को पीयूष गोयल ने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस कुछ लोगों के व्यक्तिगत या राजनीतिक लाभ के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने के स्तर पर चली गई है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भाजपा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सबसे पहले आती है।

केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस नेतृत्व पर अपनी ही सरकारों को दिन-ब-दिन अस्थिर करने का आरोप लगाया। कैप्टन अमरिंदर सिंह की टिप्पणी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा देने के बाद जिस तरह के आरोप लगाए वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है। गोयल ने कहा कि मैं पंजाब में कांग्रेस पार्टी में हो रहा है उससे बेहद चिंतित हूं क्योंकि हमारे लिए राष्ट्रीय सुरक्षा पहले आती है।

उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने जिस तरह की अस्थिरता और चिंता व्यक्त की है, वह पूरे देश के लिए चिंता का विषय है। पंजाब की सीमाओं पर राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हम सभी के लिए बहुत गहरी चिंता का विषय है। मैं केवल इतना कह सकता हूं कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस कुछ लोगों के व्यक्तिगत या राजनीतिक लाभ के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता करने के स्तर पर चली गई है।

यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस पंजाब में अपनी समस्याओं का समाधान कैसे करेगी, पीयूष गोयल ने कहा कि वह इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते कि कांग्रेस पार्टी क्या करने की योजना बना रही है या क्या करेगी, लेकिन अभी तक, उनकी किसी भी कार्रवाई से यह नहीं लगता है कि उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा या राष्ट्र हित के लिए कोई चिंता है। जी -23 समूह ने नेताओं को छोड़कर मैंने अभी तक किसी भी वरिष्ठ नेता से कोई टिप्पणी नहीं सुनी है। कांग्रेस का वर्तमान नेतृत्व राष्ट्र की चिंताओं से पूरी तरह से अलग हो गया है।

राज्य में विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले अमरिंदर सिंह के इस्तीफा देने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के नए मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभाला, लेकिन राज्य पार्टी प्रमुख के पद से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफा देने के बाद पंजाब में सत्तारूढ़ पार्टी एक नए संकट में फंस गई है। वहीं, अमरिंदर सिंह ने कहा है कि अगर सिद्धू चुनाव लड़ते हैं तो 2022 के विधानसभा चुनाव में उनकी अगुवाई नहीं करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि सिद्धू पंजाब के लिए सही आदमी नहीं हैं और उनके पाकिस्तानी प्रतिष्ठान से संबंध हैं।