राकेश टिकैत ने सरकार के सामने रखी एक और मांग, जानिए अब क्या कहा?

 


राकेश टिकैत किसानों के हक के लिए हमेशा ही लड़ते रहते हैं।
भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत किसानों के हक के लिए हमेशा ही लड़ते रहते हैं। इसी कड़ी में अब उन्होंने सरकार से एक नई मांग रख दी है। ये नई मांग धान खरीदी में नमी के नियम को शिथिल(कम) किए जाने की है।

नई दिल्ली,  भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत किसानों के हक के लिए हमेशा ही लड़ते रहते हैं। इसी कड़ी में अब उन्होंने सरकार से एक नई मांग रख दी है। ये नई मांग धान खरीदी में नमी के नियम को शिथिल(कम) किए जाने की है। दरअसल कुछ दिन पहले ही सरकार ने पंजाब व हरियाणा में किसानों की धान खरीद किए जाने का फैसला लिया है। सरकार के इस फैसले को राकेश टिकैत अपनी जीत बता रहे हैं। इसे अपने संघर्ष की जीत कह रहे हैं। इसी के साथ वो भारत सरकार से ये मांग भी कर रहे हैं कि बारिश को दृष्टिगत रखते हुए धान खरीदी में किसानों को नमी के नियम का भी फायदा दिया जाए। इस नियम में शिथिल करते हुए किसानों को राहत दी जाए।

इस बार बरसात होने की वजह से किसानों की धान की फसल में नमी आ गई है। कई जगह किसानों की धान की फसल भीग भी गई है। इस वजह से उनके धान खराब भी हो रहे हैं। सितंबर माह में हुई बरसात से पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसानों की फसलें खराब हुई है। कई जगहों पर धान कटकर रख दिए गए थे। खुले में रखे होने की वजह से वो बरसात में भीग गए मगर अब तक फिर से सूख नहीं पाए हैं। अब जब सरकार धान की फसल खरीदने को तैयार हो गई है तो राकेश टिकैत ने एक नई मांग रख दी है।

दरअस सरकार उन्हीं किसानों से धान खरीदेगी जो उनके मानकों पर खरे होंगे, भीगे हुए या किसी तरह से खराब हो चुके धान को सरकारी क्रय केंद्र नहीं खरीदेंगे। इस वजह से पंजाब, हरियाणा और यूपी के किसान इस बात को लेकर खासे परेशान हैं कि उनकी धान की फसल में भीगने की वजह से नमी हो गई है। यदि वो उसे क्रय केंद्र पर लेकर गए और वहां पर उसे खरीदने से मना कर दिया गया तो समस्या हो जाएगी। इस वजह से वो चाहते हैं कि सरकार नमी के नियम में थोड़ी ढील दे जिससे उनकी फसल को क्रय केंद्र पर खरीदने से मना न किया जाए और उनको अपनी फसल का दाम मिल सके।

इससे पहले किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत ने महाराष्ट्र के जिला उस्मानाबाद ओमेरगा मे आयोजित किसान पंचायत में भाग लिया, उन्होंने कहा कि गांधी और शास्त्री के दिखाए हुए मार्ग और गांव को बचाने के लिए आप सभी का आवाहन करने आया हूं आप किसान आन्दोलन का समर्थन करे।कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का सत्याग्रह, जय जवान - जय किसान का नारा बुलंद कर अस्तित्व को बचाने के लिए जूझता किसान आज महात्मा गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री जी के सपनों का भारत बनाने के लिए कृत संकल्पित हो इन महापुरुषों को यही सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित होगी ।

दूसरी ओर राकेश टिकैत ने सरकार पर निशाना भी साधा, उन्होंने कहा कि हम तो पहले से ही कह रहे हैं कि देश मे इंडिया फ़ॉर सेल का बोर्ड लगा हुआ है। पहले नीलामी होना बेइज्जती मानी जाती थी ,अब इज्जत का विषय है। आज देश की एयरलाइंस एयर इंडिया भी नीलाम हो गई