लखीमपुर खीरी विवाद में घिरे अजय मिश्रा टेनी, बोले- भाजपा हाईकमान ने नहीं किया तलब

 

मंत्री ने कहा है कि न तो मैं और न ही मेरा बेटा घटना स्थल पर थे।
लखीमपुर खीरी में रविवार को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे के विरोध को लेकर भड़की हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

नई दिल्ली, एएनआइ। लखीमपुर खीरी में हुई घटना के दो दिन बाद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी (Ajay Mishra Teni) दिल्ली जा रहा है। कयास लगाए जा रहे थे कि लखीमपुर की घटना को लेकर हाईकमान ने उन्हें तलब किया है। हालांकि, बुधवार को टेनी ने साफ कर दिया कि इस घटना को लेकर भाजपा आलाकमान ने उन्हें राष्ट्रीय राजधानी में नहीं बुलाया है।

एएनआई से फोन पर बात करते हुए मंत्री ने कहा, 'पार्टी आलाकमान ने मुझे नहीं बुलाया है। मैं अपने काम के सिलसिले में आज रात या कल तक नई दिल्ली पहुंच जाऊंगा। लखीमपुर खीरी कांड पर इस्तीफे की मांग को लेकर विपक्ष की आलोचना करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि नैतिकता के आधार पर मैं इस्तीफा क्यों दूं, पूरी घटना में मेरी कोई संलिप्तता नहीं है। मैं कार्यक्रम स्थल पर था, जो घटना से 4 किमी दूर था। इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि न तो मैं और न ही मेरा बेटा घटना स्थल पर थे।

केंद्रीय मंत्री ने आश्वासन दिया कि मामले में निष्पक्ष जांच होगी। उन्होंने क कि इस मामले में पूरी तरह से निष्पक्ष जांच होगी क्योंकि उत्तर प्रदेश और केंद्र में भाजपा सरकार सत्ता में है। जो लोग जांच पर सवाल उठा रहे हैं, उनका कोई लेना-देना नहीं है। हम जांच में हस्तक्षेप नहीं करते हैं।            

रविवार को लखीमपुर खीरी कांड में आठ लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में मिश्रा के बेटे आशीष समेत कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। संयुक्त किसान मोर्चा ने आरोप लगाया कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा टेनी के काफिले ने प्रदर्श कर रहे किसानों के उपर गाड़ी चढ़ा दी। हालांकि, आशीष मिश्रा ने आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि वह उस जगह पर मौजूद नहीं थे जहां घटना हुई थी।